पोस्टल बैलेट के जरिए हिमाचल पहुंचे दस हजार फौजियों के वोट

आयोग ने प्रदेश के 68 हजार सैनिकों को भेजे हैं बैलेट पेपर

शिमला – मतदान के प्रति हिमाचल की फौज ने अनूठा जज्बा पेश किया है। मतदान से चार दिन पहले ही प्रदेश के 10 हजार से ज्यादा फौजियों के वोट हिमाचल पहुंच गए हैं। देश की आंतरिक सुरक्षा तथा सरहदों में तैनात सैनिकों के पोस्टल बैलेट पेपर निर्वाचन अधिकारियों को तेजी से पहुंच रहे हैं। चुनाव आयोग की रिपोर्ट के अनुसार 15 मई तक कुल 10 हजार 527 पोस्टल बैलेट पेपर प्राप्त हो चुके हैं। हिमाचल के 68 हजार फौजी वोटरों के लिए ई-मेल के माध्यम से पोस्टल बैलेट पेपर भेजे गए हैं। इसके तहत कांगड़ा संसदीय क्षेत्र के लिए 4398 फौजी मतदाताओं के पोस्टल बैलेट पेपर प्राप्त हो चुके हैं। मंडी संसदीय क्षेत्र के लिए 1752 सैनिकों ने अपने मत का प्रयोग कर पोस्टल बैलेट पेपर भेज दिया है। हमीरपुर संसदीय क्षेत्र के लिए 2294 पोस्टल बैलेट पेपर जिला निर्वाचन अधिकारी को प्राप्त हो गए हैं। शिमला संसदीय क्षेत्र के लिए 2083 सैनिक वोटरों के पोस्टल बैलेट पेपर निर्वाचन अधिकारी को मिल गए हैं। रोचक है कि हिमाचल प्रदेश के सैनिकों ने वोट प्रतिशतता बढ़ाने के लिए खासा उत्साह दिखाया है। चुनाव आयोग के आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान हिमाचल में 86 हजार फौजी मतदाता थे। नई प्रक्रिया के तहत नए सिरे से बनाए गए सैनिकों के वोट अब 68 हजार रह गए हैं। इसी प्रक्रिया के तहत राज्य चुनाव विभाग ने सभी सेवारत सैनिकों को ई-मेल के माध्यम से पोस्टल बैलेटे पेपर भेजे हैं।

काउंटिंग टेबल बढ़ाए

चुनाव नतीजों के लटकने की संभावना के चलते चुनाव आयोग ने प्रदेश में मतगणना टेबल बढ़ाने के आदेश दिए हैं। इसके तहत अब कांगड़ा में पोस्टल बैलेट पेपर की गिनती के लिए 50, शिमला में 25, मंडी में 30 तथा हमीरपुर में 50 काउंटिंग टेबल स्थापित होंगे। प्रति टेबल 300 के करीब वोटों की गिनती का अनुमान है।

पांच क्यूआरडी कोड

इस बार पोस्टल बैलेट पेपर को मतगणना के टेबल पर खोलने के लिए पांच क्यूआरडी कोड से गुजरना होगा। इस बार पोस्टल बैलेट पेपर का पांच बार कोड का मिलान किया जाएगा।

अतिरिक्त कर्मचारी

चुनाव आयोग ने पोस्टल बैलेट पेपर की स्कैनिंग तथा गिनती के लिए अतिरिक्त कर्मचारियों को तैनात किया है। इसके लिए उपकरणों के अलावा मतगणना हॉल में अधिक मैन पावर लगाने की योजना है। वोटों की गिनती सुबह आठ से शाम पांच बजे तक चलने की संभावना है।

You might also like