प्रचार के अंतिम दिन रोड शो करेंगी प्रियंका

हिमाचल में कांग्रेस का मास्टर स्ट्रोक, सुंदरनगर और ठियोग में होगा आयोजन

शिमला – हिमाचल में चुनाव प्रचार को धार देने के लिए कांग्रेस ने मास्टर स्ट्रोक खेल दिया है। पार्टी ने घोषणा की है कि प्रदेश में चुनाव प्रचार के अंतिम दिन, यानी 17 मई को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ठियोग और सुदंरनगर में रोड शो करेंगी। हिमाचल में प्रियंका के आगमन की संभावना जरूर थी, लेकिन प्रचार के लिए अंतिम दिन चुनना और जनसभा के बाद रोड शो के जरिए लोगों से सीधा संपर्क इशारा देता है कि कांग्रेस हिमाचल की चार सीटों को कितना गंभीरता से ले रही है। शिमला में पत्रकार वार्ता के दौरान प्रियंका गांधी के कार्यक्रम की जानकारी देते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रभारी रजनी पाटिल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच वर्ष पूर्व प्रदेश के लिए जो वादे किए थे, वे पूरे नहीं हो पाए। इसीलिए लोग उन्हें सत्ता से बाहर कर देंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस केंद्र की सत्ता संभालते ही किसानों-बागवानों और बेगरोजगारों की भलाई के लिए ठोस नीति बनाएगी। उन्होंने कहा कि शुक्रवार को हमीरपुर लोकसभा चुनाव क्षेत्र के ऊना में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी चुनावी जनसभा को संबोधित करेंगे। मोदी सरकार ने देश में लोकतंत्र को खतरे में डाल दिया है। नरेंद्र मोदी ने पांच साल पहले जो वादे किए थे, उसे निभाने में वह पूरी तरह से नाकाम रहे हैं। देश मे कांग्रेस सरकार सत्ता में आने पर किसान बागबानों और बेरोजगारों के लिए सरकार सबसे पहले नीति बना कर इनको लाभान्वित करेगी। न्याय योजना के माध्यम से न्यूनतम आय की गारंटी में किसानों के खातों में छह हजार प्रति माह दिया जाएगा। रजनी पाटिल ने आरोप लगाया कि चुनावों में भाजापा नेता अपनी स्थिति को देखते हुए बौखलाहट में देश के दिवंगत प्रधानमंत्री तक पर अशोभनीय टिप्पणी कर रहे हैं। देश में महिलाओं के खिलाफ  उत्पीड़न, पिछड़ा वर्ग और अनुसूचित जाति वर्ग और एनडीपीएस जैसे मामलों के आंकड़े पांच सालों में काफी बढ़ गए हैं। मोदी सरकार के दौरान यह सभी आंकड़े विगत 10 सालों में सबसे अधिक हैं।

मोदी ने नहीं निभाए वादे

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौर ने प्रधानमंत्री के प्रदेशवासियों के साथ किए वादों की याद दिलाई। उन्होंने कहा कि पीएम ने सेब पर आयात शुल्क बढ़ाने, सेब के रस को कोल्ड ड्रिंक्स में मिलने और पतंजलि योगपीठ के साथ सेब का रस खरीदने जैसे किसी भी वादे किए थे, जो कि पूरे नहीं हो पाए।

You might also like