प्रचार में गांधी और विचार में गोडसेवादी हैं मोदी, शाह : कांग्रेस

 

नई दिल्ली – कांग्रेस ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को राष्ट्रभक्त बताने और इससे सहमति जताने वाले भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के बयानों को स्वतंत्रता सेनानियों और इतिहास पुरुषों के खिलाफ़ एक छद्म युद्ध करार देते हुए कहा है कि इन नेताओं के विरुद्ध कार्रवाई नहीं करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने साबित कर दिया है कि वे प्रचार में गांधी और विचार में गोडसेवादी हैं। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने शुक्रवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि ऐसा लगता है कि मोदी सरकार ने स्वतंत्रता सेनानियों और इतिहास पुरुषों के खिलाफ़ छद्म युद्ध छेड़ा हुआ है। रोज़ नया मुखौटा लगाकर एक मोदी अनुयायी भारत की आत्मा ‘महात्मा’ को अपमानित करता है। उन्होंने कहा कि यह भारत की अस्मिता के खिलाफ़ मोदी सरकार का गुरिल्ला युद्ध है। श्री सुरजेवाला ने भाजपा नेता साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे को राष्ट्रभक्त कहने और फिर केंद्र सरकार के मंत्री अनंत कुमार हेगड़े द्वारा उनके विचारों का अनुमोदन करने, मध्य प्रदेश भाजपा के मीडिया प्रभारी अनिल सौमित्र के महात्मा गांधी को पाकिस्तान का राष्ट्रपिता बताने तथा भाजपा नेता नलीन कटील के गोडसे का गुणगान करने और इस सभी पर किसी तरह की कार्रवाई नहीं किये जाने से साबित हो गया है कि मोदी-शाह की जोड़ी प्रचार में गांधी और विचार में गोडसेवादी है। उन्होंने कहा कि भाजपा हिंसा और हिंसक मनोवृत्ति का प्रतिनिधित्व करती है और यह दल अहिंसक भारत के मूल विचारों के खिलाफ बना राजनैतिक संगठन है। उन्होंने कहा कि श्री मोदी तथा शाह को बताना चाहिए कि क्या स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान भाजपा की असली जीवनशैली है और क्या भाजपा नेतृत्व अपने इन नेताओं के विचारों से सहमत है? श्री सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा यदि अपने इन नेताओं के बयानों से असहमति है तो श्री मोदी तथा श्री शाह को देश से माफ़ी मांगनी चाहिए और श्री हेगड़े को मंत्री पद से बर्खास्त कर प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवारी वापस लेनी चाहिए।

 

You might also like