प्रत्याशियों को आज मिलेंगे चुनाव चिन्ह

शिमला – लोकसभा चुनाव के रण में कौन-कौन रहेंगे, इसका खुलासा गुरुवार को होगा। छंटनी के बाद 46 लोग मैदान में हैं। इनमें से कौन-कौन मुकाबले में बना रहता है और कौन हट जाता है, इसका पता गुरुवार को ही चलेगा। प्रत्याशियों की अंतिम सूची गुरुवार शाम तीन बजे के बाद जारी कर दी जाएगी। चारों संसदीय क्षेत्रों के रिटर्निंग अफसरों के कार्यालयों में नोटिस बोर्ड पर प्रत्याशियों की अंतिम सूची चस्पां की जाएगी, वहीं इसके साथ चुनाव लड़ने के लिए चिन्ह भी दे दिए जाएंगे।  इस सूची में साफ होगा कि कौन से उम्मीदवार को कौन सा सिंबल मिला है, जिस पर मतदाता उन्हें वोट डाल सकते हैं। बता दें कि जो 46 लोग मैदान में हैं, उनके नामांकन सही पाए गए हैं क्योंकि मंगलवार को केवल नौ लोगों के नामांकन पत्र ही छंटनी के बाद रद्द किए गए थे। यह भी साफ है कि प्रमुख राजनीतिक दल कांग्रेस और भाजपा के जो उम्मीदवार घोषित हैं, उनके बीच में मुकाबला होना तय है, यदि इनमें से कोई नाम वापस नहीं लेता है। राजनीतिक दलों ने इनको अपना उम्मीदवार घोषित किया है, लिहाजा यह नाम वापस नहीं लेंगे। प्रदेश में प्रमुख मुकाबला भाजपा व कांग्रेस के बीच ही होना है, क्योंकि दूसरा कोई बड़ा दल यहां पर नहीं है और अधिकांश लोगों ने निर्दलीय के रूप में ही नामांकन भरा है। कुछ क्षेत्रीय दलों ने भी उम्मीदवार उतारे हैं, परंतु उन दलों का यहां पर वर्चस्व नहीं है। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने चारों सीटों पर कब्जा किया था। कांगड़ा, हमीरपुर, मंडी व शिमला संसदीय क्षेत्रों में पिछली बार कमल खिला और अबकी बार फिर दोनों प्रमुख दल एक दूसरे को टक्कर दे रहे हैं। यहां चुनाव विभाग ने अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं। चुनाव आयोग ने प्रदेश के लिए पर्यवेक्षक भी लगा दिए हैं, जो कि जल्द ही हिमाचल आकर अपना काम संभालेंगे।

तैयारियों की समीक्षा

प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी देवेश कुमार लगातार जिला निर्वाचन अधिकारियों के साथ संपर्क में हैं। बुधवार को भी नामांकन वापसी के आखिरी दिन की तैयारियों को लेकर जिला निर्वाचन अधिकारियों के साथ समीक्षा की गई। जिला निर्वाचन अधिकारी अपने स्तर पर प्रत्याशियों को चुनाव चिन्ह अलाट करेंगे, जिनकी सूची तीन बजे के बाद जारी होगी।

You might also like