फाइनल टिकट के लिए टक्कर आज

दिल्ली-चेन्नई के बीच आईपीएल-12 का दूसरा क्वालिफायर शाम साढ़े सात बजे से

विशाखापट्टनम – इंडियन प्रीमियर लीग के 12वें संस्करण में नए चेहरे के साथ उतरी दिल्ली कैपिटल्स ने नए रंग भी दिखाए और टूर्नामेंट में अपना अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए दूसरे क्वालिफायर में पहुंच गई है, हालांकि पहली बार फाइनल में पहुंचने की राह में शुक्रवार को उसे तीन बार की चैंपियन चेन्नई सुपरकिंग्स की सबसे बड़ी बाधा को पार करना होगा। दिल्ली ने हैदराबाद को एलिमिनेटर में एक गेंद शेष रहते दो विकेट से हराया था, जबकि चेन्नई को तालिका में दूसरे स्थान पर रहने का फायदा मिला और वह पहला क्वालिफायर मुंबई से अपने ही मैदान पर छह विकेट से हारने के बाद अब क्वालिफायर-2 में दूसरे और अंतिम मौके को भुनाने उतरेगी। गत चैंपियन और तीन बार आईपीएल का खिताब जीत चुकी चेन्नई को तीन बार की चैंपियन मुंबई ने हराया था, लेकिन लीग के पिछले संस्करणों में फिसड्डी रही दिल्ली उसे चौंका पाती है, इस पर सभी की निगाहें लगी हैं। चेन्नई, मुंबई के हाथों पराजित होकर सीधे फाइनल का टिकट पाने से चूक गई, जिसके लिए उसके बल्लेबाज जिम्मेवार रहे। खुद कप्तान धोनी ने भी खिलाडि़यों को घरेलू मैदान पर भी परिस्थितियों की समझ नहीं होने और खराब प्रदर्शन के लिए लताड़ा था। उम्मीद की जा सकती है कि वह दिल्ली के खिलाफ पहले से बेहतर रणनीति के साथ उतरेगी।

युवा पंत बनाम अनुभवी धोनी

हैदराबाद के खिलाफ पंत की 21 गेंदों में पांच छक्कों और दो चौकों की नाबाद 49 रन की मैन ऑफ दि मैच पारी ने ही दिल्ली को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। आईसीसी विश्वकप की टीम में जगह बनाने से चूके युवा विकेटकीपर इस अहम मुकाबले में विपक्षी टीम के कप्तान अनुभवी विकेटकीपर धोनी के सामने अपने खेल को साबित करना चाहेंगे। पंत ने अब तक 15 मुकाबलों में दिल्ली के लिए तीन अर्द्धशतक सहित 450 रन बनाए हैं।

नए अवतार में उतरी, 14 में से नौ मैच जीते

दिल्ली लीग के 12वें संस्करण में सौरभ गांगुली और रिकी पोंटिंग जैसे दिग्गज मेंटरों और श्रेयस अय्यर की कप्तानी में नए लोगो और नए नाम के साथ उतरी है और लीग के 14 मैचों में नौ जीतकर वह तालिका में तीसरे नंबर पर रही।

बल्लेबाजी

दिल्ली की टीम एक बार फिर अपने स्टार खिलाडि़यों के दम पर करिश्मा करने के लिए तैयार है और पिछले मैच में हैदराबाद को हराने के बाद ऊंचे आत्मविश्वास के साथ चेन्नई का सामना करने उतरेगी। दिल्ली के लिए अब तक पृथ्वी शॉ, शिखर धवन, श्रेयस और मध्यक्रम में विकेटकीपर ऋषभ पंत ने कमाल का खेल दिखाया है।

गेंदबाजी

गेंदबाज़ी में दिल्ली स्पिनर अमित मिश्रा, तेज गेंदबाज इशांत शर्मा और कीमो पॉल से अच्छे प्रदर्शन की अपेक्षा करेगी। कीमो पिछले मैच में तीन विकेट के साथ सबसे सफल रहे थे। चेन्नई और दिल्ली के बीच अब तक टूर्नामेंट में 20 मैच खेले गए हैं, जिसमें चेन्नई ने 14 जीते हैं और अब तक दिल्ली केवल छह ही जीत सकी है। हालांकि मौजूदा फार्म की बदौलत दिल्ली बड़े उलटफेर करने में सक्षम दिखाई दे रही है।

सामने कौन; नहीं देखता, बस जड़ देता हूं छक्का

विशाखापट्टनम – दिल्ली कैपिटल्स की 2 विकेट की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले ऋषभ पंत ने कहा कि जब वह ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए लय में आ जाते हैं तो उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन गेंदबाजी कर रहा है। पंत ने 21 गेंद में 49 रन की पारी के दौर पांच छक्के जड़े, जिससे दिल्ली कैपिटल्स ने आईपीएल एलिमिनेटर में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ दो विकेट से जीत हासिल की। मैन ऑफ दि मैच रहे पंत ने मैच के बाद कहा, ‘टी20 में आपको 20 गेंद में 40 या इससे ज्यादा रन बनाने की जरूरत होती है, फिर आपको एक गेंदबाज के खिलाफ आक्रमण करना होता है। मैं यह नहीं देखता कि कौन गेंदबाजी कर रहा है। यह हमारी आदत में शुमार हो चुका है और इसलिए हम इतना ज्यादा अभ्यास करते हैं। आज यह विशेष रहा, क्योंकि मैंने गेंद को ज्यादा जोर से हिट करने का प्रयास नहीं किया। मैं सिर्फ गेंद को देख रहा था और सही टाइम से हिट करने की कोशिश कर रहा था।

बल्लेबाजी

चेन्नई के कप्तान धोनी चेन्नई के लिए 13 मैचों में 135 के औसत से 405 रन बनाकर शीर्ष स्कोरर हैं और पहले क्वालिफायर में भी अंबाती रायुडू (नाबाद 42) के साथ नाबाद 37 रन की पारी खेलकर वह टीम को 100 के पार ले गए थे। वैसे चेन्नई एक संतुलित टीम है और प्लेसिस, रायुडू, सुरेश रैना और शेन वाटसन के रूप में उसके पास बढि़या स्कोरर हैं।

गेंदबाजी

गेंदबाजों में स्पिनर इमरान ताहिर (23 विकेट), लेफ्ट आर्म स्पिनर रवींद्र जडेजा (13 विकेट), दीपक चाहर (17 विकेट) और ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह (14 विकेट) चेन्नई की ताकत हैं और निरंतर अच्छा कर रहे हैं। उम्मीद की जा रही है कि चेन्नई के कप्तान दिल्ली के खिलाफ भी अपनी उसी टीम को उतारेंगे, जिसने मुंबई के खिलाफ खेला था।

लीग मैचों में दूसरे नंबर पर रही

दूसरी ओर महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नई आईपीएल की सबसे सफल टीमों में है, जो चौथे खिताब के लिए खेल रही है। लीग में दिल्ली से बेहतर रन रेट के कारण वह दूसरे नंबर पर रही थी। चेन्नई वर्ष 2010, 2011 और 2018 में चैंपियन रह चुकी है।

You might also like