फायर सीजन… फील्ड स्टाफ की छुट्टियां रद्द

नूरपुर—वन मंडल नूरपुर के तहत पड़ते विभिन्न वनों को इस बार की प्रचंड गर्मियों में आग से बचाने के लिए वन विभाग ने कमर कस ली है और फील्ड स्टाफ  की छुट्टियां रद्द कर दी है, क्योंकि नूरपुर क्षेत्र काफी गर्म इलाका है और इस क्षेत्र में वनों को आग से बचाने के लिए संबंधित विभाग ने काफी तैयारियां की हैं। वन मंडल नूरपुर के तहत पांच वन रेंज पड़ती है, जिसमें वन रेंज नूरपुर, कोटला, जवाली, रे व इंदौरा  है। वन मंडल नूरपुर के तहत लगभग 55 हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल है, जिसमें 82 वीट्स है, जो कि आग की दृष्टि से संवेदनशील है और इसमें लगभग 58  वीट्स अति संवेदनशील है। सौभाग्य से अभी तक वन मंडल नूरपुर में कोई आगजनी की घटना नहीं हुई है। वन मंडल नूरपुर की वन मंडल अधिकारी बसु कौशल (आईएफएस ने बताया कि अभी फायर सीजन चला है, जो कि अप्रैल से जून माह तक चलेगा और इसमें फील्ड स्टाफ की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं। केवल जरूरी कारणों पर ही छुट्टी मिलेगी। उन्होंने बताया कि विभाग ने आग को नियंत्रित करने के लिए 63 किलोमीटर लंबी फायर लाइन बनाई है और लगभग 85 फायर वचार तैनात किए है, ताकि आग पर काबू पाया जा सके । वन मंडल नूरपुर में पहली बार एक मोबाइल फायर फाइटिंग यूनिट तैयार की है, जो कि आग की सूचना मिलते ही फायर फाइटिंग एक्यूवमेंट के साथ तुंरत मौके पर पहुंचती है। उन्होंने बताया कि लोग स्टेट टोल फ्री नंबर 1077 व डिस्टिक टोल फ्री नंबर 1070 पर भी आग की सूचना दे सकते हैं।  इस अवसर पर उन्होंने वन मंडल नूरपुर द्वारा तैयार की मोबाइल फायर फाइटिंग एक्यूवमेंट सिस्टम मिनी फायर ब्रिगेड जैसा है, को भी चला कर दिखाया कि इसके द्वारा आग पर कैसे काबू पाया जाता है। वन मंडल अधिकारी नूरपुर बसु कौशल ने लोगों से वनों को आग से बचाने के लिए वन विभाग के सहयोग की अपील की है, ताकि वनों को आग से बचाया जा सके।

400 वालंटियर शामिल

फोरेस्ट फायर फाइटर फोर्स के तहत वन मंडल नूरपुर में 400 वालंटियर को इसमें शामिल किया है, जो कि वनों को आग से बचाएंगे। उन्होंने कहा कि एक फायर अलर्ट मैनेजमेंट सिस्टम बनाया गया, जो कि वनों को आग लगने पर इससे जुड़े सभी कर्मचारियों व वालंटियर को एसएमएस द्वारा अलर्ट भेजता है। वन मंडल नूरपुर में व पांच वन रेंज में आग से निपटने के लिए कंट्रोल रूम बनाए है।

You might also like