बगलामुखी में लखविंदर वडाली ने नचाए भक्त

कांगड़ा—बगलामुखी मंदिर बनखंडी में रविवार को माता की जयंती धूमधाम से मनाई गई । इस मौके पर विख्यात गायक लखविंदर वडाली ने नचना पेंदा है, भेंट पर भक्त खूब नचाए। उन्होंने ष्रहमता दा मी बरसा दे दातिये सहित कई भेंटें सुनाईं। बाबा हंसराज रघुवंशी ने मेरा भोला है भंडारी और कुमार साहिल ने मेला लगया दाती दा भेंट सुनाकर भक्तों को थिरकने पर मजबूर कर दिया। रफीक  चंचल और सोनम चौधरी ने माता की भेंटे सुनाकर भक्तों को मंत्र मुक्त कर दिया। इस मौके पर बगलामुखी मंदिर को रंग -बिरंगी रोशनियों और फूलों से सजाया गया था। सुबह तड़के पहले पहर मां के मंदिर के कपाट मंत्र उच्चारण की गूंज के साथ खुले। इसके बाद मां के भक्तों के आने का सिलसिला यहां शुरू हो गया। सूर्य उदय होते ही मंदिर में भक्तों की लंबी-लंबी कतारें देखी गईं। जागरण आयोजन समिति के प्रबंधक ऋषि मल्होत्रा ने बताया कि इस मर्तबा माता की जयंती पर विशेष आयोजन किया गया है और मां के भक्तों ने इसका भरपूर आनंद उठाया। मंदिर के संचालक महंत रजत गिरि ने बताया कि भविष्य में भी मां बगलामुखी के उत्सव धूमधाम से मनाए जाते रहेंगे, ताकि भक्तों का मेला यहां सजा रहे। उन्होंने बताया कि विश्वकल्याण अर्थ यहां महायज्ञ का आयोजन भी मां की जयंती के मौके पर किया गया। मां के भक्तों ने भी यहां हवन यज्ञ किए उद्देश्य यही था कि मां उनकी मनोकामनाएं पूर्ण करें और कष्टों से छुटकारा दें। महंत रजत गिरि ने बताया कि मां बगलामुखी का दूसरा नाम पितांबरा देवी भी है। लिहाजा मां को पीला रंग अति प्रिय है, इसलिए पूजन में भी पीले रंग की सामग्री का ही प्रयोग यहां किया जाता है। मां की जयंती के अवसर पर शनिवार को भी यहां स्थानीय कलाकारों द्वारा मां का गुणगान किया गया, जिसका भक्तों ने पूरा आनंद उठाया और  भक्त मां की भेंटों पर खूब झूमे।

You might also like