बढ़ती गर्मी के साथ गहराने लगा जल संकट

भुंतर—लगातार बढ़ती गर्मी ने जिला कुल्लू में जल संकट को फिर से बढ़ाना आरंभ कर दिया है। जिला की रूपी-पार्वती घाटी के कई इलाकों में पानी को लेकर लोग परेशान होने लगे हैं। लिहाजा, लोगों ने महकमें से पानी की दिक्कत को दूर करने के लिए कड़े कदम उठाने की मांग उठाई है। जानकारी के अनुसार जिला के दियार क्षेत्र में लोगों को एक दिन के अंतराल के बाद पानी मिल रहा है तो पार्वती घाटी के चौंग-जल्लूग्रां और साथ लगते इलाकों में भी पानी को लेकर लोगों में परेशानी बढ़ रही है। बताया जा रहा है कि कई स्थानों पर तकनीकी कारणों से पानी का संकट पैदा हो रहा है तो कुछ स्थानों पर पाइपलाइनों की दिक्कतों के कारण पानी नलकों में नहीं आ रहा है। बता दें कि हर साल गर्मियों की पानी की परेशानी लोगों को होती है। हालांकि विभाग भी पानी के संकट को देखते हुए अलर्ट हो गया है। जानकारी के अनुसार सरकार ने भी विभाग को निर्देश जारी किए हैं और जिन इलाकों मे पानी की किल्लत होती है वहां पर विभाग को पीने के पानी की पूर्ति हर हाल में तय करने को कहा है। इसके अलावा बरसात आने तक किसी भी अधिकारी या कर्मचारी की छुट्टी भी बंद कर दी गई है। जानकारी के अनुसार अधिकारियों को अधूरे पड़े कार्यों अथवा जो अभी शुरू नहीं किए गए हैं, उन्हें बिना देरी के शुरु करने को कहा और कोताही न बरतने की हिदायत दी है। जानकारी के अनुसार सरकार जल्द ही सूखे की किसी भी संभावना से निपटने के लिये व्यापक कार्ययोजना तैयार करने की योजना बना रही है। बता दें कि पिछले साल भी जिला कुल्लू की रूपी-पार्वती घाटी के एक दर्जन से अधिक गांवों को टैंकरों के माध्यम से पानी की आपूर्ति गर्मियों में की गई थी। हालांकि इस बार मौसम ने कुछ साथ दिया है और ग्रामीणों व अधिकारियों की मानें तो फिलहाल पिछले साल की तरह नाजुक हालात अभी नहीं है। लेकिन कुछ गांवों में पानी न आने से ग्रामीण परेशान है। बता दें कि इन दिनों जिला में कृषि-बागबानी का सीजन भी चरम पर है और कई ग्रामीण पीने के पानी को खेतों की सिंचाई में भी प्रयोग करते हैं और इससे दूसरे ग्रामीणों को परेशानी होती है। जिला कुल्लू के शमशी में स्थित आईपीएच के अधिशासी अभियंता आर के शर्मा के अनुसार अधिकारियों और फील्ड कर्मचारियों को निर्देश दिए गए हैं और जिन भी इलाकों में पानी की कमी हो रही है, उसे दूर करने को कहा गया है।

You might also like