बदले जाएंगे छह जिलों के डीसी

शिमला –लोकसभा चुनावों में भाजपा को मिली एकतरफा जीत पर गदगद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने साफ कर दिया है कि प्रदेश के आधे जिलों के डीसी बदले जा सकते हैं। प्रशासनिक फेरबदल में जिला के अधिकारी भी शामिल हैं। इसके अलावा कुछेक जिलों के एसपी भी हटाए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने दो टूक कहा कि बड़े स्तर पर प्रशासनिक फेरबदल किया जाएगा। इसके लिए अफसरशाही की 15 माह की कार्यप्रणाली को आधार बनाया गया है। सीएम का कहना था कि पूर्व की सरकारों में अहम पदों पर रहे ब्यूरोक्रेट्स अब भी अपने पुराने आकाओं के महिमामंडन में मशगूल हैं। सीएम ने इन प्रशासनिक अधिकारियों को अपनी कार्यप्रणाली में सुधार की नसीहत दी है। सीएम ने इन अधिकारियों को स्पष्ट संकेत दिया है कि किसी भी कर्मचारी-अधिकारी की कोई पार्टी नहीं होती। मौजूदा सरकार के साथ अफसरों को पूरी ईमानदारी से काम करना चाहिए। बावजूद इसके कुछ प्रशासनिक अफसर अब भी कुछ नेताओं के प्रभाव में अपनी मर्यादा तोड़ रहे हैं। सीएम ने कहा कि हिमाचल सरकार के मंत्रिमंडल में दो पद खाली हुए हैं। हम किसी तरह की जल्दी में नहीं है। इस विषय में केंद्रीय नेतृत्व से चर्चा करने के बाद ही आगामी रणनीति तैयार होगी। मुख्यमंत्री ने संकेत दिए हैं कि हिमाचल में उपचुनाव से पहले फिलहाल एक ही मंत्री बनाया जाएगा। इसके लिए मोदी सरकार के गठन का इंतजार करना पड़ेगा। सीएम का कहना है कि कुछ मंत्रियों के विभागों में फेरबदल हो सकता है। इसके लिए पहले केंद्रीय नेतृत्व को विश्वास में लिया जाएगा। हाइकमान की सहमति के बाद कुछेक मंत्रियों के विभाग बदले जाएंगे। सीएम ने कहा कि अब धर्मशाला तथा पच्छाद विधानसभा का उपचुनाव अब अगला हमारा लक्ष्य है। इसके लिए भी हमारा संगठन अभी से रणनीति बनाने में जुट गया है। जनता ने हम पर विश्वास जताया है और हम उनकी उम्मीदों पर खरा उतरेंगे। इन्हीं ईमानदार प्रयासों के चलते उपचुनाव भी जीतेंगे। लोकसभा चुनावों के लिए भारी मतदान और प्रचंड समर्थन करने के लिए प्रदेश की जनता का आभारी हूं। यह ऐतिहासिक जीत आने वाले लंबे समय तक याद रहेगी। चारों सीटें बड़े अंतर से जीतना भाजपा के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। इसके लिए भाजपा संगठन का आभारी हूं। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं शांता कुमार, प्रेम कुमार धूमल और जेपी नड्डा के सहयोग व मार्गदर्शन से हम बेहतर परिणाम लाने में सफल रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले चुनावों के मुकाबले बड़े अंतर से जीत हासिल करना हमारा लक्ष्य था। हालांकि पहाड़ जैसी लीड मिलना हमारे लिए खुशी के साथ चुनौती भी है। इस बार जीत का अंतर निकट भविष्य में किसी भी पार्टी के लिए तोड़ना आसान नहीं होगा। भारतीय जनता पार्टी को प्रदेश में 70 फीसदी से अधिक वोट प्राप्त हुए हैं। इन लोकसभा चुनावों में सबसे ज्यादा वोट प्रतिशतता हासिल करने का सौभाग्य भी प्रदेश की जनता को मिला है। इससे साफ प्रमाणित हुआ है कि हिमाचल प्रदेश का बच्चा-बच्चा मोदी जी को दिल से चाहता है।

You might also like