बसें रैली के लिए बुक  सड़कों पर लोग परेशान

घुमारवीं—निजी बसों के सहारे टिकी जिला बिलासपुर की परिवहन व्यवस्था रविवार को पटरी से उतरती दिखी। अधिकांश निजी बसें रैली में बुक होने के कारण लोगों को सड़कों पर परेशानियां झेलनी पड़ी। घंटों इंतजार करने के बाद लोगों को बस सुविधा मिल रही थी। रविवार को रूटों पर बसें कम चलने के कारण सबसे अधिक दिक्कतें ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को उठानी पड़ी। लोगों को मजबूरन ग्रामीण इलाकों में चलने वाली परिवहन निगम की एक्का-दुक्का बसों के सहारे ही रहना पड़ा, जबकि कई लोगों को महंगे दामों में टैक्सियां हायर करके गंतव्य तक पहुंचना पड़ा। जिससे उन्हें आर्थिक नुकसान भी झेलना पड़ा। हालांकि, हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसें निर्धारित रूटों पर सरपट दौड़ रही थी, लेकिन ग्रामीण इलाकों में निगम की बहुत कम बसें होने के कारण लोग खासे परेशान रहे। जानकारी के मुताबिक बिलासपुर जिला मुख्यालय में रविवार को भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की चुनावी जनसभा थी। इसमें लोगों की भीड़ लाने के लिए जिला में निजी बसों को बुक किया था। इससे रविवार को बहुत कम रूटों पर निजी बसें दौड़ी, जिसके कारण लोगों को आने-जाने के लिए काफी दिक्कतें झेलनी पड़ी। बताते चलें कि बिलासपुर जिला में लोकल परिवहन व्यवस्था निजी बसों पर थमी हुई है। ग्रामीण क्षेत्रों से लेकर जिला मुख्यालय व उपमंडलों के मुख्यालय पर सैकड़ों रूटों पर निजी बसें प्रतिदिन दौड़ती रहती है, लेेकिन रविवार को अधिकांश निजी बसें रैली के लिए बुक रहीं। लोगों को तपती दुपहरी में सड़कों पर खड़े होकर बसों का इंतजार करना पड़ा। मजबूरी व जल्दी में जाने वाले लोगों को टैक्सियां हायर करनी पड़ी। इससे रविवार को बसें कम रूटों पर दौड़ी। इसके कारण लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

You might also like