बस आपरेटरों से वापस मांग रहे सैलानी किराया

16 मील में लग रहा घंटों टै्रफिक जाम, ट्रांसपोटरों पर पड़ रहा भारी

मनाली -कुल्लू-मनाली एनएच पर 16 मील के समीप लग रहा टै्रफिक जाम सैलानियों के लिए तो आफत बना ही है,वहीं अब वोल्वो बस आपरेटरों के लिए भी बड़ी परेशानी बनकर उभरा है। मनाली से शाम के समय चलने वाली वोल्वो बसे 16 मील में दो से तीन घंटे तक फंस रही हैं और इस की कीमत आपरेटरों को चुकानी पड़ रही है। सैलानी जहां अपनी बुकिंग कैंसिल कर रहे हैं, वहीं बस में बैठे यात्री भी अपना किराया वापस ले रहे हैं। 16 मील में पहाड़ी से हुए भू-स्खलन का मलबा जहां सड़क पर दलदल का रूप ले चुका है, वहीं यहां शाम के समय घंटों ट्रैफिक जाम लगा रहा है। ऐसे में सैलानी जहां समय पर अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच पा रहे हैं, वहीं किसी की फलाई तो किसी की ट्रेन छूट रही है। ऐसे में सैलानी देरी की कीमत वोल्वो बस आपरेटरों से मांग रहे हैं। मनाली सुपर लग्जरी वोल्वो ऑनर एसोसिएशन की अध्यक्ष लाजबंती शर्मा का कहना है कि समर सीजन के दौरान जहां सैलानियों को कुल्लू-मनाली एनएच पर दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, वहीं उन्होंने बताया कि सबसे पहला ट्रैफिक जाम खास कर शाम को डोभी पुल पर लगता है। उसके बाद बसें 16 मील में घंटों ट्रैफिक जाम में फंस रही हैं। उन्होंने कहा कि यात्री आपरेटरों से किराया वापस ले रहे हैं दूसरी बार उक्त सड़क पर सफर करने से भी तौबा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह प्रशासन से मांग करती हैं कि 16 मील में शाम के समय ट्रैफिक पुलिस जवानों की तैनाती की जाए जो  यहां लगाने वाले ट्रैफिक जाम पर काबू पा सके। उन्होंने कहा कि समर सीजन में ही सैलानियों की खासी चहलकदमी मनाली में रहती है। ऐसे में घाटी आने वाले सैलानी मनाली पहुंचने से पहले ही ट्रैफिक  जाम में फंस रहे हंै और बस आपरेटरों से उल्लझ रहे हैं। सैलानियों का कहना है कि दो से तीन घंटे तक यहां ट्रैफिक जाम में उन्हें फंसा रहना पड़ रहा है। हलांकि मनाली प्रशासन ने सड़क का काम कर रही निजी कंस्ट्रक्शन कंपनी को जल्द से जल्द सड़क से मलबा हटाने व भू-स्खलन को रोकने के आदेश दिए हैं। बहरहाल कुल्लू-मनाली एनएच पर 16 मील का टै्रफिक जाम वोल्वो बस आपरेटरों पर अब भारी पड़ने लगा है।

You might also like