बासी पनीर से पांच बीमार

शिमला —बासी पनीर से पांच लोग बीमार पड़ गए। आईजीएमसी मंे एक ही परिवार से पांच प्रभावितांे ने बासी पनीर से बीमार होने पर अस्पताल मंे इलाज करवाया है। उन्हें फूड प्वाइजनिंग की शिकायत हुई है। अब हर दिन आने वाले प्रभावितांे को देखते हुए जिला स्वास्थ्य प्रशासन ने भी सतर्कता बरती है। मंगलवार के आंकड़ांे पर ही गौर करें तो आईजीएमसी और रिपन मंे ही 12 लोग जलजनित प्रभावित आए हैं जो डायरिया, आंत्रशोथ और पीलिया के शिकार हुए हैं। प्रदेश के आयुर्वेदिक  एवं अन्य अस्पतालांे मंे जलजनित रोगांे से निपटने के लिए डाक्टरांे के एक विशेष दल का गठन कर दिया गया है, जिसमंे शिमला मंे इस बाबत तैयारी शुरू कर दी गई है। राज्य मंे जलजनित रोगांे पर समय रहते पकड़ जमाने के लिए आयुर्वेद और स्वास्थ्य विभाग ने गाइडलाइन जारी की है, जिसमंे जनता को जहां साफ खान पान की हिदायतंे जारी की गई हंै वहीं, सभी आयुर्वेद अस्पतालांे मंे जलजनित रोगांे के लिए जीवनरक्षक दवाआंे का पूरा स्टॉक रखने के निर्देश जारी किए गए हैं। देखा जाए तो प्रदेश के सभी जिलांे मंंे अब जलजनित रोगांे के मामले आने लगे हैं, जिसमंे सभी जिलांे मंंे प्रभावित अस्पतालांे मंे इलाज करवाते भी देखा जा रहा है। प्रतिदिन प्रदेश के जिला और सिटी के अस्पतालांे मंे सौ से अधिक केस जलजनित रोगांे से प्रभावित होकर आ रहे हैं। जानकारी के मुताबिक आईजीएमसी, डीडीयू और के एनएच मंे प्रभावितांे द्वारा इलाज करवाया जा रहा है। आंकड़ांे पर गौर करें तो राजधानी मंे अभी सबसे ज्यादा बच्चांे को डायरिया ने जकड़ लिया है। इन प्रभावित बच्चांे का डीडीयू और आईजीएमसी मंे इलाज करवाया गया है। लिहाजा डाक्टरांे का यह कहना है कि अपने खान-पान मंे स्वच्छता बरतें और विशेषतः बच्चांे के खान-पान पर विशेष ध्यान देने के निर्देश जारी किए गए हैं। 

You might also like