बिरयानी आर्डर कर खाते से उड़ाए साढ़े बारह हजार

सुजानपुर—शहर में ऑनलाइन ठगी का अनोखा मामला सामने आया है। यहां शातिरों ने एक रेस्टोरेंट मालिक को तगड़ा चूना लगा दिया। बिरयानी आर्डर करने के बाद पेमेंट के लिए अकाउंटर नंबर मांगा। जैसे ही रेस्टोरेंट मालिक ने अपना अकाउंटर नंबर दिया, तो पैसा आना दूर, जो खाते में पैसा था वह भी उड़ गया। रुपए निकाले जाने का मैसेज पढ़ते ही रेस्टोरेंट मालिक के होश उड़ गए। इसके बाद मामला पुलिस थाना सुजानपुर में दर्ज करवाया गया है। जानकारी के अनुसार शहर के एक रेस्टोरेंट मालिक को शातिरों ने फोन करके बिरयानी बनाने का ऑर्डर दिया और पैसे देने के लिए गूगल पे अकाउंट नंबर मांगा। फिर क्या था जैसे ही रेस्टोरेंट मालिक ने ऑनलाइन पैसे लेने के लिए गूगल पे अकाउंट का नंबर दिया, शातिरों ने अकाउंट का पैसा ही उड़ा लिया। शिकायतकर्ता ने ऑनलाइन ठगी का यह मामला थाना सुजानपुर में दर्ज करवाया है। घटना रविवार शाम की है। शिकायतकर्ता के अनुसार रविवार सुबह उसे एक ग्राहक का फोन आया और उन्होंने यह पूछा कि क्या आप बिरयानी बना लेते हो। रेस्टोरेंट मालिक ने हां बोला और फिर बात आगे बढ़ना शुरू हो गई। बातों का जाल बुनते हुए शातिरों ने रेस्टोरेंट मालिक को करीब 75 बिरयानी बनाने का ऑर्डर दे दिया। शाम को बिरयानी लेने की बात तय हो गई। इसी बीच दोपहर को रेस्टोरेंट मालिक ने पुनः उस ग्राहक को ऑर्डर कन्फर्म करने के लिए फोन किया, तो बिरयानी ऑर्डर देने वाले ग्राहक ने हां में हां मिलाते हुए अपना ऑर्डर जारी रखने की बात की। इसी बीच ग्राहक ने रेस्टोरेंट मालिक से पहले पैसे देने को लेकर उनका अकाउंट नंबर मांगना चाहा जिसपर रेस्टोरेंट मालिक ने उस ग्राहक को ऑनलाइन पैसे डालने के लिए गूगल पे अकाउंट नंबर दे दिया। रेस्टोरेंट मालिक के इस अकाउंट में पहले करीब 12,500 रुपए थे। जैसे ही रेस्टोरेंट मालिक ने ग्राहक को यह अकाउंट नंबर दिया, तो इस अकाउंट में बिरयानी के पैसे आना तो दूर जो पैसे जमा था, वह भी गायब हो गया। पैसा ट्रांसफर होने संबंधी एक संदेश भी रेस्टोरेंट मालिक के मोबाइल पर आ गया। गनीमत यह रही कि रेस्टोरेंट मालिक ने अभी तक आर्डर की गई बिरयानी नहीं बनाई थी। सुजानपुर थाना प्रभारी सुभाष शास्त्री ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया शिकायतकर्ता की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा है कि ऑनलाइन ठगी के शिकार पढ़े-लिखे लोग ज्यादा हो रहे हैं। विभाग व सरकार लगातार जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन कर इस तरह की धोखाधड़ी से बचने का आह्वान कर रहे हैं। बावजूद इसके शातिर लोगों को बेवकूफ बनाने में कामयाब हो रहे हैं। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि अपने बैंक संबंधित खाते की कोई भी डिटेल किसी अनजान को न दें।

You might also like