बिलासपुर में ईवीएम की सिक्योरिटी टाइट

बिलासपुर—बिलासपुर के स्ट्रांग रूम में रखी गईं इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की सुरक्षा को त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरा लगाया गया है। ऐसे में स्ट्रांग रूम के आसपास परिंदा भी पर नहीं मार सकेगा। इसकी सुरक्षा को सीआईएसएफ  के साथ ही एचपीएपी फर्स्ट बीएन जुन्गा बटालियन के जवान व जिला पुलिस कर्मी 24 घंटे अलर्ट मोड पर तैनात किए गए हैं। इनकी सतर्कता परखने के लिए 12-12 घंटे के लिए अधिकारी भी तैनात किए गए हैं। ये भ्रमणशील रहकर सुरक्षा को परख रहे हैं। इसके अलावा डीसी विवेक भाटिया व एसएसपी अशोक कुमार भी सुबह-शाम यहां निरीक्षण कर रहे हैं। सुरक्षा घेरे के अंदर केवल अधिकृत व्यक्ति ही प्रवेश कर पा रहा है। इन मशीनों की सुरक्षा व्यवस्था के मध्य मतगणना स्थल बनाए गए स्ट्रांग रूम में वोटिंग मशीन को सुरक्षित रखवाकर रूम के गेटों को भी सील कराया गया है। अब मतगणना 23 मई को होनी है। ऐसे में एसएसपी बिलासपुर अशोक कुमार ने ईवीएम की सुरक्षा के चाक चौबंद सुरक्षा इंतजामात किए हैं। सुरक्षा को त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरा बनाया गया है। स्ट्रांग रूम के चारों ओर चप्पे-चप्पे पर पुलिस व पैरा मिलिट्री फोर्स का पहरा है। इसमें आंतरिक घेरा (स्ट्रांग रूम के आसपास) में एक प्लाटून सीआईएसएफ  के करीब 30 जवान तैनात किए गए हैं। द्वितीय घेरा में एचपीएपी फर्स्ट बीएन जुन्गा बटालियन के करीब 10 से 12 जवान तो तृतीय (आउटर कार्डन) बाहरी घेरे पर जिला पुलिस के 24 जवान  तैनात हैं। इसके अलावा मतगनणा वाले दिन टै्रफिक व्यवस्था और लॉ एंड आर्डर बनाए रखने के लिए भी भारी पुलिस बल तैनात किया है। मतगणना के दौरान कोई भी अप्रिय घटना न घट पाए इसके लिए पुलिस बल हर मूवमेंट पर नजर रखेगा। वहीं उपायुक्त एवं जिला निवार्चन अधिकारी विवेक भाटिया ने बताया कि सफल व शांतिपूर्ण मतदान के लिए 900 से भी अधिक सुरक्षा कर्मियों ने अपनी अहम भूमिका निर्वहन किया, जबकि ईवीएम व वीवीपैट की सुरक्षा तथा 23 मई को होने वाली मतगणना के लिए लगभग 200 से भी अधिक सुरक्षा बलों के जवानों की तैनाती की गई है।

You might also like