बेटियों से गौरवान्वित समाज

 कमलेश कुमार, फतेहपुर धमेटा

हिमाचल में सीबीएसई बोर्ड की दसवीं का परीक्षा परिणाम 97.28 फीसदी रहा है, जो सराहनीय है। डल्हौजी की रीत और देहरा की अंशिका ने हिमाचल में टॉप कर अपनी जीत का परचम लहराया है, वहीं लगातार दूसरे वर्ष लड़कों के मुकाबले ज्यादा लड़कियों ने परीक्षा पास कर यह साक्ष्य दिया है कि वे लड़कों से आगे निकलने के रास्ते पर चल पड़ी हैं। बात चाहे परीक्षा परिणाम की हो या अन्य क्षेत्रों की, लड़कियों ने भी रूढि़वादी सीमाओं को लांघकर अपने हौसलों की उड़ान भरना शुरू कर दी है। ऐसे में कई परिवार या लोग अभी भी इस मुगालते में हैं कि लड़के घरों के चिराग हैं और लड़कियां तो पराई अमानत हैं। इसी वजह से भू्रण हत्या हमारे समाज की आदत बन चुकी है। ऐसे लोगों को यह समझने की कोशिश करनी चाहिए कि लड़कियां उन फूलों के समान हैं, जो न केवल एक, बल्कि दो परिवारों व समाज को गौरवान्वित करने की काबिलीयत रखती हैं।

 

You might also like