भगवान को प्राप्त करने के लिए गुरु का होना जरूरी

बम्म। मैहरी-काथला पंचायत के शिव कैलू मंदिर कुलवाड़ी में चल रही श्रीमद्भागवत कथा के दूसरे दिन प्रवंचन करते हुए पंडित बनीत शर्मा ने कहा कि बात, गति, पित परिवर्तन और कफ शरीर के अंगों की रक्षा व तामान की स्थिरता व त्वचा की सुरक्षा के लिए आवश्यक है।  उन्होंने कहा कि भगवान को प्राप्त करने के लिए पहले गुरु का होना जरूरी है। गुरु बिन गत नहीं, क्योंकि गुरू ही एकमात्र ऐसा साधन है, जिनकी सहायता से भगवान को पाया जा सकता है। गुरु की सच्चा मार्ग दिखाकर भवसागर से पार करता है। मंदिर कमेटी के प्रधान कर्म चंद, सचिव देवराज, सलाहकार रघुराम शर्मा, श्याम सिंह, अमर नाथ, दीना नाथ व विजय सिंह ने बताया कि 25 मई को हवन और 26 मई को पूर्णाहुति व विशाल भंडारे के साथ कथा का समापन किया जाएगा।

You might also like