भाजपा में डबल जोश उड़ गए कांग्रेस के होश

जीत का अंतर

धर्मशाला -प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर में हिमाचल की चारों लोकसभा सीटों पर वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में जीत का अंतर कई गुणा बढ़ गया है। सर्वाधिक इजाफा मंडी संसदीय क्षेत्र में देखने को मिला है। रामस्वरूप शर्मा की जीत का अंतर पिछले चुनावों के मुकाबले इस बार दस गुना बढ़ गया है। वर्ष 2014 में रामस्वरूप शर्मा ने 39 हजार 856 मतों से जीत हासिल की थी, लेकिन इस लोकसभा चुनाव में रामस्वरूप शर्मा ने चार लाख पांच हजार 459 के भारी अंतर से सीट पर कब्जा किया है। इसी तरह हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में अनुराग ठाकुर ने वर्ष 2014 में 98 हजार 403 वोट से जीत दर्ज की थी, लेकिन इस बार अनुराग ठाकुर ने तीन लाख 87 हजार 812 मतों से जीत हासिल की है। अनुराग ठाकुर ने चार गुना ज्यादा मतों से हमीरपुर सीट कब्जाई है। शिमला सीट से लोकसभा चुनावों में भाजपा ने नए प्रत्याशी के रुप में सुरेश कुमार कश्यप को मौका दिया था, पिछले चुनाव में भाजपा के प्रत्याशी वीरेंद्र कश्यप ने 84 हजार 187 मतों से जीत हासिल की थी वहीं इस बार सुरेश कुमार कश्यप ने 3 लाख 27 हजार 515 मतों से जीत हासिल की है, वर्ष 2014 के लोस चुनावों से यह बढ़त करीब चार गुणा है। कांगड़ा संसदीय क्षेत्र से भी नए प्रत्याशी के रूप में भाजपा ने किशन कपूर को मैदान में उतारा था, पिछले बार किशन कपूर के राजनीतिक गुरु शांता कुमार ने इसी सीट से एक लाख 70 हजार 72 मतों से जीत दर्ज की थी लेकिन इस बार कांगड़ा संसदीय क्षेत्र से प्रत्याशी किशन कपूर ने सभी पुराने रिकार्ड तोड़ते हुए ऐतिहासिक जीत हासिल की है। किशन कपूर ने लोस चुनाव 2019 में चार लाख 66 हजार 659 मतों से जीत हासिल की है। 2014 के चुनावों से इस बार का अंतर पौने तीन गुणा है। भाजपा ने प्रदेश की चारों सीटों पर बड़ी जीत हासिल की है। प्रदेश में यह पहली बार है कि भाजपा इतने बड़े अंतर से जीत दर्ज की है।

You might also like