मंडी में जेबीटी प्रशिक्षुओं का हल्ला बोल

शहर में रोष रैली निकाल किया प्रदर्शन, बीएड वालों को जेबीटी से करो बाहर के लगाए नारे

मंडी—बीएड धारक युवाओं को भी जेबीटी भर्ती के लिए पात्र किए जाने के विरोध में मंडी शहर में मंगलवार को जेबीटी प्रशिक्षुओं ने रोष निकाल कर जोर-शोर के साथ प्रदर्शन किया। प्रदेशाध्यक्ष अभिषेक ठाकुर की अध्यक्षता में डाइट व निजी संस्थानों में पढ़ रहे प्रशिक्षुओं ने रैली निकाली। शहर में प्रदर्शन के बाद जेबीटी प्रशिक्षुओं ने उपायुक्त के माध्यम से सरकार को ज्ञापन भी भेजा। इस अवसर पर जेबीटी प्रशिक्षु यूनियन के अध्यक्ष अभिषेक ठाकुर ने कहा कि प्रशिक्षुओं का एक ही उद्देश्य है कि बीएड डिग्री धारकों को जेबीटी में शामिल न किया जाए। उन्होंने कहा कि जब जेबीटी प्रशिक्षुओं के लिए अलग से सरकार द्वारा सरकारी व निजी संस्थान खोले गए हैं तो ऐसे में बीएड धारकांे को कैसे जेबीटी के लिए पात्र किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि हर वर्ष लगभग 3000 से ज्यादा युवा जेबीटी की ट्रेनिंग लेते हैं और बीएड व जेबीटी धारक दोनों की न्यूनतम योग्यता भी अलग-अलग हैं। उन्हांेने कहा कि इस मामले में सरकार कोर्ट में सही पक्ष नहीं रख रही है। ट्रिब्यूनल कोर्ट ने सरकार से दो फ रवरी को जवाब मांगा था, जिसके बाद पिछली चार सुनवाइयों में अभी तक सरकार ने कोई जवाब नहीं दिया है। उन्हांेने कहा कि जिस तरह डेंटिस्ट की ट्रेनिंग करवा कर एक युवा को कार्डियोलॉजिस्ट या आर्थो का डाक्टर नहीं बनाया जा सकता है, ठीक उसी प्रकार बीएड डिग्री धारकों को जेबीटी डीएलएड डिप्लोमा धारकों की जगह रखना भी उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि इसलिए जेबीटी प्रशिक्षुओं की मांग है कि सरकार कोर्ट में हमारा सही पक्ष रखे और जेबीटी प्रशिक्षुओं को राहत दिलाई जाए। उन्हांेने कहा कि अगर सरकार ने ऐसा नहीं किया तो जेबीटी प्रशिक्षुओं को अपना आंदोलन तेज करना पडे़गा।

You might also like