मंडी में वीरभद्र की झप्पी या जयराम का कद

पहली बार जिला को मिले मुख्यमंत्री के पद को भुना रही सत्तारुढ़ भाजपा को जीत का पूरा भरोसा

मंडी —प्रदेश की सत्ता का केंद्र बना मंडी संसदीय क्षेत्र सियासी अखाड़े का नूर बनकर सबका ध्यान खींच रहा है। इस हलके में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के कद से टकराने के लिए कांग्रेस ने वीरभद्र सिंह की झप्पी को हथियार बनाया है। टिकट आवंटन के दौरान दिल्ली में वीरभद्र सिंह से पंडित सुखराम को मिली झप्पी के पोस्टर भरमौर से किन्नौर तक दिख रहे हैं। इसके विपरीत एंटी इनकंबेंसी झेल रहे भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप अपनी जीत के लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की छवि को भुना रहे हैं। मंडी में मुख्यमंत्री पद का नारा सही मायने में भाजपा के हौंसलों को बुलंद कर रहा है। पांच दशकों बाद जिला को मिला मुख्यमंत्री पद रामस्वरूप का रामबाण है। हालांकि भाजपा की असली अग्निपरीक्षा कुल्लू तथा भरमौर-किन्नौर व रामपुर में होगी। यह सच है कि मुख्यमंत्री का सराज कनेक्शन पहाड़ के वोटर का आकर्षण बन रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के मजबूत गढ़ रहे अपर हिमाचल में मुख्यमंत्री अपना प्रभाव छोड़ रहे हैं। मुख्यमंत्री की मंडी, सिरमौर, शिमला, चंबा तथा जनजातिय क्षेत्र के पहाड़ों में कई चुनावी जनसभाआें में इसका नजारा साफ दिखा है। करसोग में एक चुनावी जनसभा के दौरान सोमवार को वीरभद्र सिंह के ही अंदाज में चुनावी सभा से भाषण की बजाय संवाद किया था। मंच के माध्यम से वीरभद्र सिंह करसोग घाटी के लोगों से सीधी बात कर रहे थे। हू-ब-हू जयराम ठाकुर का यह वीरभद्र सिंह वाला अंदाज था। उधर, मंडी जिला में सीएम पद के नारे को बल मिलना भाजपा के लिए शुभ संकेत है। हालांकि कुल्लू का किला बचाना और जनजातीय क्षेत्रों में सेंधमारी भाजपा के लिए आसान नहीं होगी। इसके अलावा वीरभद्र सिंह के प्रभाव वाला रामपुर भी इस संसदीय क्षेत्र के नतीजों को प्रभावित कर सकता है। दीगर है कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों में मोदी की प्रचंड लहर के बावजूद भरमौर तथा रामपुर में भाजपा को करारी शिकस्त मिली थी। लिहाजा इस बार भाजपा इन क्षेत्रों में बेहतर परिणाम देती है तो यह श्रेय सिर्फ मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को मिलेगा। इसके विपरीत कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा के लिए सुखराम परिवार के नाम के अलावा वीरभद्र सिंह से भी बेहद उम्मीदें हैं। यही कारण है कि वीरभद्र सिंह के साथ सुखराम के झप्पी वाले फोटो को सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा खुद कांग्रेस वायरल कर रही है।

 

You might also like