ममता को लगेगा झटका, टीएमसी के 3 विधायक और कई पार्षद बीजेपी में हो सकते हैं शामिल

नई दिल्ली/कोलकाता  – लोकसभा चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा और बीजेपी व टीएमसी के बीच तनाव अब भी जारी है। इस बीच, TMC के 3 विधायकों और कई पार्षदों के BJP में शामिल होने की अटकलों के बाद दोनों दलों में तनाव और भड़क सकता है। लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में जबरदस्त प्रदर्शन के बाद बीजेपी और आक्रामकता के साथ टीएमसी और ममता को चुनौती देने के मूड में दिख रही है। कभी ममता बनर्जी के काफी करीबी रहे मुकुल रॉय के नेतृत्व में बीजेपी टीएमसी के नेताओं के अपने पाले में खड़ा करने की कोशिश कर रही है। ऐसी अटकले हैं कि मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांसु रॉय समेत टीएमसी के 3 विधायक दिल्ली दिल्ली में बीजेपी की सदस्यता ले सकते हैं। शुभ्रांसु के अलावा नोआपारा से विधायक सुनील सिंह और बैरकपुर के विधायक शीलभद्र दत्ता के भी मुकुल रॉय के साथ दिल्ली आने की खबर है। रॉय खुद 2017 में बीजेपी में शामिल हुए थे। मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु को टीएमसी पार्टीविरोधी गतिविधियों के आरोप में पहले ही सस्पेंड कर चुकी है। तीनों विधायकों के अलावा टीएमसी के कई पार्षद भी बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। खास बात यह है कि तीनों विधायक बैरकपुर लोकसभा सीट के तहत आने वाले विधानसभा क्षेत्रों की नुमांदगी करते हैं। बैरकपुर में बीजेपी के अर्जुन सिंह ने टीएमसी के कद्दावर नेता और 2 बार के सांसद रहे दिनेश त्रिवेदी को शिकस्त दी है। बिजपुर से विधायक सुनील सिंह अर्जुन सिंह के रिश्तेदार हैं। टीएमसी के कई पार्षद भी बीजेपी के संपर्क में : कांचरापारा, नैहाटी, हलीसह, भाटपारा, गरुलिया और नॉर्थ बैरकपुर के कई टीएमसी पार्षद पिछले 2 दिनों से मुकुल रॉय के घाटकपारा स्थित घर पर दस्तक दे रहे हैं और बीजेपी में शामिल होने की इच्छा जता रहे हैं। इनमें वे 22 टीएमसी पार्षद भी शामिल हैं जिन्होंने 8 अप्रैल को भाटपारा म्यूनिसपैलिटी के तत्कालीन चेयरमैन अर्जुन सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ वोट दिया था। हालांकि, बीजेपी का दावा है कि टीएमसी के कम से कम 55 पार्षद उसके संपर्क में हैं। मुकुल रॉय के घाटकपारा घर का नजारा 2017 से एकदम उलट है, जब टीएमसी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने उनके घर पर काली पूजा कार्यक्रम से दूरी बना ली थी। लेकिन लोकसभा चुनाव में बीजेपी के शानदार प्रदर्शन ने सूरत बदल दी है। अब रॉय के घर मजमा लगा हुआ है और टीएमसी के कई नेता और कार्यकर्ता उनसे बीजेपी में शामिल होने के लिए संपर्क कर रहे हैं।

You might also like