मांगें न मानीं, तो वोट भी नहीं

दाड़लाघाट -चुनाव आयोग ने जहां अपना कीमती मतदान करने के लिए मतदाताओं को जागरूक करने में कई अभियान चला रखे हैं। वहीं, दूसरी ओर लोग अपने सांसदों ओर विधायकों से नाराज होकर चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला ले रहे हैं। मतदाताओं का कहना है कि जब क्षेत्र में कोई काम ही नहीं करता तो वे मतदान क्यों करें। यह बात ग्राम पंचायत बैरल के सुई बोही के ग्रामवासियों ने वार्ड नंबर-एक में आयोजित एक बैठक में कही। बैठक में ग्रामवासियों ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि जब तक ग्राम पंचायत बैरल के गांव सुई बोही की मांगे पूरी नहीं की जाती तब तक ग्रामवासियों द्वारा एक भी वोट नहीं दिया जाएगा, क्योंकि सभी ग्राम वासियों को आज आजादी के 70 साल बाद भी सरकारों द्वारा चूना ही लगाया जा रहा था और वर्तमान में भी सिर्फ ठेंगा ही दिखाया जा रहा है। जबकि पिछले चुनाव में वर्तमान विधायक एवं पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा था कि तुम मुझे वोट दो और मैं तुम्हें सड़क दूंगा लेकिन बीते एक साल के अंतराल में स्थानीय लोगों को सड़क नहीं मिल पाई और न ही कहीं सड़क के लिए बजट का कोई प्रावधान किया गया है। अब जबकि दोबारा नेता वोट मांगने के लिए आ रहे हैं और आश्वासन दिया जा रहा है कि आपका कार्य चुनाव के बाद हो जाएगा। लेकिन  ग्राम वासियों ने अब निर्णय लिया है कि पहले सड़क सुविधा दी जाए फिर मतदान अवश्य किया जाएगा। ग्रामीणों ने सरकार से आग्रह किया है कि ग्रामीणों की मांगों को जल्द से जल्द पूरा किया जाए। जिससे हरिजन बस्ती में भी विकास हो। इस दौरान बैठक में पवन, मदन, चमारु, टीटूराम, पपुराम, चमनलाल, सोहनलाल, गंगाराम, भागो देवी, प्रभा देवी, जगरनाथ, मेहर चंद, कमल, सोनू, धर्मा, राजू, जुदया देवी, बाबू राम, श्याम लाल, दीप कुमार सहित स्थानीय लोग शामिल रहे।

क्या कहते हैं एसडीएम अर्की

उपमंडलाधिकारी अर्की विकास शुक्ला ने बताया की प्रशासन की ओर से कोई कमी नहीं है। लोगों द्वारा अपनी जमीन का अनापत्ति प्रमाण पत्र देना है। जिस कारण सड़क का कार्य शुरू करने में विलंब हो रहा है।

फोरेस्ट विभाग की एनओसी नहीं मिली

एक्सईएन लोक निर्माण विभाग अर्की एके सोनी ने बताया कि विभाग द्वारा इस सड़क निर्माण के लिए मौके पर जाकर एस्टीमेट व अन्य कार्य कर दिया है। अब स्थानीय लोगों व फोरेस्ट विभाग की एनओसी नहीं मिली है। जब एनओसी मिल जाएगी तो इस सड़क का कार्य शुरू करवा दिया जाएगा। यह सड़क बजट में है।

You might also like