मेडिकल यूनिवर्सिटी तो ठीक… शुरू कब होगी

विश्वविद्यालय में आठ महीने से स्थायी वीसी नियुक्त नहीं कर पाई सरकार

शिमला -प्रदेश की पहली मेडिकल यूनिवर्सिटी के नाम बड़े और दर्शन छोटे लग रहे हैं। हालांकि प्रदेश सरकार का दावा है कि इसी सत्र से यूनिवर्सिटी शुरू होगी और मेडिकल कालेजों की काउंसिलिंग यहीं होगी, लेकिन अभी तक प्रदेश सरकार ने स्थायी वीसी की नियुक्ति नहीं की है। प्रदेश सरकार ने नेरचौक में स्थापित होने वाली इस यूनिवर्सिटी का नाम अटल मेडिकल एंड रिसर्च यूनिवर्सिटी रखा है। इस सत्र से नीट की परीक्षा के बाद सभी एमबीबीएस सीटों की काउंसिलिंग यहीं करवाने का भी निर्णय लिया गया था, मगर इसके लिए अभी इंतजार करना होगा। जानकारी के मुताबिक प्रदेश सरकार जल्द ही सर्च कमेटी की बैठक बुलाएगी और वीसी पद फाइनल कर देगी। गौर हो कि प्रदेश के छह सरकारी मेडिकल कालेज, एक निजी कालेज सहित 42 नर्सिंग कालेजों की प्रवेश प्रक्रिया भी मेडिकल यूनिवर्सिटी से शुरू होनी है। हालांकि पिछले कई वर्षों से मेडिकल, डेंटल कालेज सहित नर्सिंग कालेजों की काउंसिलिंग हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी ही करती आ रही है। प्रदेश में संचालित सभी मेडिकल कालेज, डेंटल कालेज और नर्सिंग कालेज मेडिकल यूनिवर्सिटी के दायरे में आएंगे। प्रदेश सरकार ने पहले चरण में वीसी का अतिरिक्त कार्यभार मंडलायुक्त मंडी, रजिस्ट्रार नेरचौक मेडिकल कालेज के संयुक्त निदेशक और परीक्षा नियंत्रक का अस्थायी कार्यभार मेडिकल कालेज के ही डिप्टी रजिस्ट्रार को सौंपा गया है। ऐसे में अब जल्द ही सर्च कमेटी की बैठक होगी, उसके बाद ही वीसी सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारियों की नियुक्तियां की जाएंगी। बता दें कि प्रदेश सरकार ने मेडिकल यूनिवर्सिटी नेरचौक में वीसी का पद भरने के लिए आवेदन आठ महीने से आमंत्रित किए हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव आरडी धीमान की अध्यक्षता में छह सदस्यीय सर्च कमेटी पिछले साल नवंबर महीने में गठित कर दी गई थी। जून महीने के पहले सप्ताह में वीसी सहित सभी अधिकारियों की नियुक्तियां की जानी हैं।

 

You might also like