मोदी को सरकार बनाने का न्योता

नई दिल्ली -लोकसभा चुनाव में अभूतपूर्व जीत के बाद नए सरकार के गठन की कवायद तेज हो गई है। एनडीए संसदीय दल का नेता चुने जाने के बाद नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर नई सरकार बनाने का दावा पेश किया, जिस पर उन्हें राष्ट्रपति ने सरकार बनाने का न्योता दिया। इससे पहले एनडीए के प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति से मुलाकात कर नरेंद्र मोदी को संसदीय दल का नेता चुने जाने का पत्र राष्ट्रपति को सौंपा था। इसके अलावा एनडीए के सभी घटक दलों ने अपने-अपने समर्थन पत्र भी राष्ट्रपति को सौंपे। नरेंद्र मोदी को शनिवार शाम को हुई एनडीए और भाजपा की संसदीय दल की बैठक में सर्वानुमति से नेता चुना गया। इसके बाद मोदी ने राष्ट्रपति भवन जाकर महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर नई सरकार बनाने का दावा पेश किया। हालांकि शपथ ग्रहण की तारीख अभी तक तय नहीं हो पाई है। भाजपा संसदीय दल की बैठक नई दिल्ली के संसद स्थित सेंट्रल हॉल में हुई। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भाजपा संसदीय दल के नेता के रूप में नरेंद्र मोदी के नाम का प्रस्ताव रखा। इस प्रस्ताव का राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी ने समर्थन किया। इसके बाद औपचारिक रूप से अध्यक्ष अमित शाह ने एक बार फिर से नरेंद्र मोदी के भाजपा संसदीय दल के नेता चुने जाने की घोषणा की, जिसके पश्चात नरेंद्र मोदी को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के संसदीय दल का नेता चुना गया। शिरोमणि अकाली दल के नेता प्रकाश सिंह बादल ने नरेंद्र मोदी के नाम का प्रस्ताव रखा। उनके नाम का समर्थन जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार, लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान समेत राजग के सहयोगियों ने किया। पीएम नरेंद्र मोदी ने राजग संसदीय दल के नेता चुने जाने के बाद नरेंद्र मोदी ने संसद में संविधान की किताब के सामने सिर झुकाया। नेता चुने जाने के बाद पीएम मोदी ने कहा कि वह इसके लिए हृदय से आभार प्रकट करते हैं व इस नई यात्रा के लिए संकल्पबद्ध हैं। पीएम मोदी ने कहा कि भारत के लोकतंत्र को हमें समझना होगा। भारत का मतदाता, भारत के नागरिक के नीर, क्षीर, विवेक को किसी मापदंड से मापा नहीं जा सकता है। हम कह सकते हैं सत्ता का रुतबा भारत के मतदाता को कभी प्रभावित नहीं करता है। सत्ताभाव भारत का मतदाता कभी स्वीकार नहीं करता है।

You might also like