मोदी ने दिया सैनिकों को सम्मान

हमीरपुर —पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने मंगलवार को हमीरपुर व सुजानपुर विस क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर जनसभाओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि पूर्व की कांग्रेस सरकारों और मोदी सरकार में यही फर्क है कि कांग्रेस सरकारें राष्ट्र की सुरक्षा के मामले में कड़े निर्णय लेना तो दूर, उल्टा सुरक्षाबलों के अधिकारों में भी कटौती करती रहीं, जबकि मोदी सरकार ने दुश्मन की सीमा के भीतर सर्जिकल स्ट्राइक कर अपने जवानों की शहादत का बदला लिया। उन्होंने कहा 2016 में उड़ी की घटना के बाद भारतीय सेना ने पहली बार सीमा पार कर आतंकी शिविर तहस-नहस किए और इस वर्ष पुलवामा घटना के बाद एक बार फिर दुश्मन की सरहद के भीतर अपने लड़ाकू विमानों के जरिए आतंकी शिविर उड़ाए। प्रो. धूमल ने कहा कि आज कांग्रेस के नेता दावे कर रहे हैं कि उन्होंने छह बार सर्जिकल स्ट्राइक की थी। लेकिन यह सर्जिकल स्ट्राइक कब की थी, कहां की थी और किसके खिलाफ की थी, इस बारे कांग्रेस के नेता देश की जनता को कुछ नहीं बता पा रहे। उन्होंने कहा असलियत तो यह है कि कांग्रेस में ऐसा कोई हिम्मतवाला नेतृत्व ही नहीं था, जो सेना को दुश्मन के दुस्साहस का माकूल जवाब देने के लिए फ्री हैंड देता। उन्होंने कहा मोदी सरकार न केवल सैनिकों के शौर्य का सम्मान करती है, प्रो. धूमल ने कहा वहीं कौमें जिंदा रहती है,ं जो अपने सैनिकों व शूरवीरों का सम्मान करती हैं, लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि कांग्रेस सेना के शौर्य पर भी अंगुली उठाती है। उन्होंने कहा कांग्रेस शासन में दिवंगत प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने एक बार यह कहा था कि केंद्र से एक रुपया चलता है, तो नीचे तक 15 पैसे पहुंचते हैं। लेकिन आज मोदी सरकार अगर दो हजार भेजती है तो पूरे दो हजार रुपए ही लाभार्थी के खाते में आते हैं और इसे ही भ्रष्टाचार मुक्त व पारदर्शी सरकार कहते हैं।

हर वर्ग का रखा ख्याल

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी सरकार ने समाज के हर वर्ग का ख्याल रखा है और कमजोर वर्ग को फोकस में रखकर योजनाएं पूरी मुस्तैदी से क्रियान्वित की हैं। उन्होंने कहा अपने चुनावी घोषणा पत्र में भाजपा ने यह वादा किया है कि 60 साल की आयु सीमा से ऊपर वाले किसान मजदूर और छोटे दुकानदार की अगर आमदनी का कोई जरिया नहीं होगा तो उसे 3000 रुपए मासिक पेंशन दी जाएगी, ताकि वह अपना जीवन यापन कर सकें।

You might also like