मोदी मैजिक…घर में ही हार गए रामलाल ठाकुर

बिलासपुर—इस लोकसभा चुनाव में मतदाताओं ने जातिवाद, परिवारवाद और क्षेत्रवाद से ऊपर उठकर राष्ट्रवाद के नाम पर वोट किया है। मोदी मैजिक की हवा इस कद्र चली कि कांग्रेस प्रत्याशी अपने गृहहलका नयनादेवी में भी लाज नहीं बचा पाए। यह पहला ही मौका है जब लोकसभा चुनाव मंे नयनादेवी हलके में भी कांग्रेस को लीड नहीं मिली। चार विधानसभा क्षेत्रों वाले जिला में बीजेपी के तीन विधायकों सुभाष ठाकुर, राजेंद्र गर्ग व जेआर कटवाल और पूर्व विधायक रणधीर शर्मा ने अपने-अपने क्षेत्रों से बीजेपी प्रत्याशी को रिकार्ड लीड दिलाकर बिलासपुर से अंदरखाते कांग्रेस को लीड मिलने को लेकर चल रही चर्चाओं व अटकलों की धार को कुंद कर दिया। बिलासपुर ने कुल 67,154 मतों की लीड देकर बीजेपी प्रत्याशी की बड़े मार्जिन से जीत सुनिश्चित करने में अहम भूमिका निभाई। गुरुवार को सुबह आठ बजे मतगणना शुरू होने के बाद जैसे ही नौ बजे पहले राउंड की रिपोर्ट आई तो कालेज ग्राउंड में जुटे बीजेपी कार्यकर्ताओं की बांछें खिल गईं और नारेबाजी होने लगी। खास बात यह है कि पहले राउंड से ही बीजेपी प्रत्याशी अनुराग ठाकुर की लीड का चला सिलसिला अंतिम राउंड तक बरकरार रहा और पिछले तीन चुनाव के मुकाबले इस बार एक बड़े मार्जिन से जीत का इतिहास रचते हुए अनुराग ठाकुर ने लोकसभा की दहलीज पार की है। जिला का ऐसा कोई हलका नहीं, जहां से अनुराग ठाकुर को पिछले तमाम चुनावों की तुलना में इस बार भारी बढ़त न मिली हो। हालांकि कांग्रेस का गढ़ माने जाने वाले नयनादेवी हलके से लोकसभा चुनाव में अमूमन कांग्रेस को ही लीड मिलती रही है, लेकिन इस मर्तबा परिणाम बीजेपी के पक्ष मंे आया और भाजपा प्रत्याशी को 10833 मतों की लीड मिली है। इसी प्रकार अन्य तीन हलकों में भी अनुराग ठाकुर रिकार्ड बढ़त लेने में कामयाब हुए हैं जिसके तहत सदर बिलासपुर हलके से 18206 मतों और झंडूता से 18140 तथा घुमारवीं 19975 मतों की लीड मिली है। बिलासपुर रैली में बीजेपी चीफ अमित शाह के अनुराग ठाकुर को जीतने के बाद बड़ा नेता बनाने और बाद में शहर में डोर-टू-डोर मतदाताओं से स्पोर्ट की अपील करने व कुठेड़ा व कंदरौर में जनसभाएं कर माहौल तैयार करने में रही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा द्वारा अहम भूमिका भी काम आई।

नयनादेवी हलके में रणधीर शर्मा की हो गई बल्ले-बल्ले

लोकसभा चुनाव में इस बार अपने हलके से कांग्रेस प्रत्याशी होने के चलते दांव पर लगी प्रतिष्ठा बचाने में पूर्व विधायक एवं बीजेपी के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता रणधीर शर्मा कामयाब रहे। यह पहला है जब नयनादेवी से 10833 मतों की लीड बीजेपी प्रत्याशी को मिली है। इससे रणधीर शर्मा की खूब बल्ले बल्ले हो रही है। रणधीर शर्मा ने लीड का श्रेय कार्यकर्ताओं की दिन रात की कड़ी मेहनत और जयराम सरकार के डेढ़ साल के कार्यकाल में किए गए अभूतपूर्व कार्यों और मोदी सरकार की उपलब्धियों को दिया है। उन्होंने सभी मतदाताओं और कार्यकर्ताओं का आभार भी प्रकट किया।

You might also like