राजधानी…जाम देखना हो तो सचिवालय आएं

शिमला—किसी ने जाम देखना हो तो वह सचिवालय आ सकता है। यहां रोजाना सैकड़ों वाहन सुबह से फंसे रहते हैंं। अफसरशाही की कुसुम्पटी से आने वाली गाडि़यों को निकालने के लिए नवबहार तक सैकड़ों वाहनों को रोक दिया जाता है और सचिवालय के बाहर सुबह 9 से 11 बजे तक वाहनों की लंबी कतार लगी होती है। सचिवालय में यह हाल तब है जबकि सरकार यहां पर नहीं है। जब मुख्यमंत्री व मंत्री यहां पर बैठ जाएंगे तो कैसी स्थिति होगी, यह सोचा जा सकता है। इससे पहले कभी सचिवालय के आसपास के क्षेत्र में इस तरह से ट्रैफिक जाम जैसी स्थिति रोजाना नहीं होती थी। इन दिनों यह दिक्कत अधिक बढ़ गई है, जिसका पुलिस कोई समाधान नहीं कर पा रही है। छोटा शिमला चौक पर खड़े पुलिस कर्मी कुसुम्पटी की ओर से आने वाले वाहनों को अधिक तवज्जो देते हैं और उनको निकालने के लिए दूसरे मार्गों के वाहन रोक दिए जाते हैं जबकि इससे पहले भी व्यवस्थित तरीके से वाहनों का आवागमन होता रहा है। उधर, सोमवार शाम को ट्रैफिक पुलिस की एक और लापरवाही देखने को मिली जब विकट्री टनल से लेकर लक्कड़ बाजार तक लंबा जाम लग गया। उस समय लोगों के घर जाने का समय रहता है और तब तारा हाल स्कूल में एक कार्यक्रम से स्कूली बच्चे छूटे। शाम 7 बजे के बाद यहां पर वाहनों को निकालने के लिए कोई पुलिस कर्मी नहीं था और स्कूल का एक कर्मचारी जाम खुलवाता हुआ दिखा। यहां जो लोग विकट्री टनल से 7 बजे घरों की ओर चले थे वे 8 बजे लक्कड़ बाजार बस अड्डे पर पहुंचे। यहां पर्यटकों के साथ-साथ ऊपरी शिमला को जाने वाली बसें भी फंस गईं और लोगों को गंतव्य तक पहुंचने मंे खासी दिक्कतें उठानी पड़ीं। शिमला को सुबह बड़ी संख्या में ऊपरी शिमला से लोग आते हैं। उनका यहां सरकारी दफ्तरों मंे काम होता है वहीं कर्मचारी वर्ग भी सुबह यहां पहुंचता है। ऐसे में शहर में जाम की स्थिति से लोगों को दो चार होना पड़ रहा है। कई दिनों से यह परेशानी पेश आ रही है, जिससे लोग समय पर अपने दफ्तरों में नहीं पहुुंच पा रहे। वहीं, स्कूली बच्चों का भी समय पर स्कूल पहुंचना मुश्किल हो चुका है। शहर को जाम से आजादी दिलाना पुलिस के लिए एक बड़ी चुनौती बन चुका है। ज्यादातर पुलिस कर्मचारी चालान काटने की ड्यूटी ही निभा रहे हैं।

अवैध पार्किंग से लग रहा जाम

एक तरफ  पुलिस प्रशासन शिमला की कई जगहों पर अवैध पार्किंग पर चालान मिनटों में काट रहे हैं, वहीं शहर के कई ऐसे भी क्षेत्र हैं, जहां पर कई दिनों से लोग अवैध रूप से सड़कों के किनारे गाडि़यां पार्क  कर रहे हैं, लेकिन शिमला की स्मार्ट पुलिस ऐसे क्षेत्रों में नहीं पहुंच रही है।

सुबह के समय हो रहा मेटलिंग का कार्य

बता दें कि इन दिनों जाम लगने का एक कारण यह भी है कि छोटा शिमला व संजौली के बीच सड़कों में मेटलिंग का कार्य सुबह के समय लग रहा है। यह भी एक कारण है कि वहां पर लंबा जाम सुबह से ही लग रहा है।

You might also like