रात के अंधेरे में जलाया जा रहा कूड़ा

कुल्लू—कुल्लू शहर में कूड़े को जलाने का मामला अब तूल पकड़ने लगा है। प्रशासन के रोक के बावजूद कुछ लोग रात के अंधेरे में कूड़े को जला जहां एनजीटी के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं, वहीं नगर परिषद की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़ा हो गया है। शहर में फैली गंदगी को लेकर डीसी कुल्लू यूनुस जहां एक तरफ  कड़े कदम उठा रहे हैं, वहीं दूसरी और नगर परिषद के अंतर्गत आते वार्डों में आग की घटना को देखते हुए नगर परिषद की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़ा हो गया है। शहर में एनजीटी के आदेशों की लगातार अवमानना की जा रही है। शहर में यही चर्चा है की इस घटना में कहीं न कहीं नप के ठेकेदारों का हाथ है क्योंकि एक सप्ताह में यह दूसरी घटना को अंजाम दिया गया है। कभी बस स्टैंड के सामने तो कभी हनुमानीबाग के कूड़े को सरेआम जलाया जा रहा है। नगर परिषद जहां एक तरफ अपनी लापरवही का सबूत तो दे ही रहा है, वहीं दूसरी और  शहर के वातावरण को भी दूषित किया जा  रहा है। बता दंे की  एनजीटी के आदेश के अनुसार कूड़े में आग लगाने और प्रदुषण फैलाने पर एक लाख से पांच लाख तक के जुर्माने का प्रावधान है, लकिन नगर परिषद लगातार इन आदेशों की अवमानना करता नजर आ रहा है। शहर में फैली गंदगी को लेकर जहां प्रशासन द्वारा जिला स्तरीय रिपोर्ट भेजी जा रही है, वहीं बिना किसी खौफ  के शहर के कूड़े को आग के हवाले किया जा रहा है। बीते दिनों भी ऐसी ही घटना कुल्लूू में देखने को मिली थी, जिसके लिए नगर परिषद और प्रशासन द्वारा दोषी के खिलाफ  कार्रवाई करने की बात कही गई थी, लकिन अभी तक कोई सख्त कार्रवाई नहीं की गई है। अभी बीते मामले पर की गई कार्रवाई पर प्रशासन द्वारा कोई जवाब भी नहीं आया था की एक बार फिर शरह के एक वार्ड में कूड़े को खतम करने के लिए रात के अंधेरे का सहारा लिया गया। हनुमानीबाग  में   फिर से कूड़े को जलाया गया है। उधर, उपायुक्त कुल्लू यूनुस का कहना है कि कूड़े को जलाने वाले लोगों के खिलाफ प्रशासन कार्रवाई करेगा। उन्होंने कहा कि नगर परिषद को इस संबंध में कार्रवाई करने के आदेश दिए गए हैं और जल्द ही शहर के विभिन्न वार्डों में प्रशासन सीसीटीवी कैमरा लगाने की योजना तैयार कर रहा है।

You might also like