रूसी एस-400 की खरीद से यूएस बेचैन

भारत को थाड मिसाइल सिस्टम देने की पेशकश

दिल्ली -संयुक्त राज्य अमरीका ने रूसी एस-400 के विकल्प के रूप में भारत को टर्मिनल हाई एल्टीच्यूड एरिया डिफेंस (टीएचएएडी) और पैट्रियट एडवांस कैपेबिलिटी (पीएसी-3) की पेशकश की है। भारत सालों तक चली बातचीत के बाद रूस से अत्याधुनिक एस-400 मिसाइल के खरीद के लिए समझौता कर चुका है। ट्रंप प्रशासन ने रूस के साथ हथियार खरीद को लेकर अभी कोई फैसला नहीं किया है कि वह भारत पर ‘काट्सा’ को लगाएगा कि नहीं। इस प्रतिबंध के लगने से भारत की सामरिक और आर्थिक शक्ति प्रभावित होगी। माना जाता है कि रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण और विदेशमंत्री सुषमा स्वराज के साथ पिछले साल सितंबर में दिल्ली में हुई 2+2 बैठक के दौरान एस-400 को लेकर बात हुई थी। इसमें इस समझौते पर अमरीकी प्रतिबंधों को न लगाने को लेकर सहमति बन गई थी, लेकिन अब तुर्की और सऊदी अरब द्वारा भी इस मिसाइल को खरीदने की संभावना को देखकर अमरीका किसी भी देश को प्रतिबंधों में छूट देने से इनकार कर सकता है। अमरीकी थाड मिसाइल रक्षा प्रणाली के प्रत्येक इकाई की अनुमानित कीमत लगभग तीन बिलियन डालर है। सऊदी अरब ने नवंबर में 44 थाड लांचर और मिसाइल खरीदने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किया था। इसकी प्रत्येक बैटरी छह लांचर्स के साथ आती है, जिसकी कीमत 15 बिलियन डालर है, जबकि रूस से खरीदे जा रहे एस-400 के पांच यूनिट के लिए भारत 5.4 बिलियन डालर का भुगतान करेगा। इसके प्रत्येक यूनिट में आठ लांचर्स होंगे। अमरीका द्वारा भारत को थाड मिसाइल सिस्टम और पीएसी-3 सिस्टम खरीद के लिए किए गए ऑफर की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। अमरीकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने औपचारिक प्रस्ताव की पुष्टि या खंडन करने के अनुरोध के जवाब में कहा कि हम सार्वजनिक रूप से प्रस्तावित रक्षा बिक्री की पुष्टि नहीं करते हैं या तब तक पुष्टि नहीं करते हैं जब तक कि उन्हें औपचारिक रूप से कांग्रेस को सूचित नहीं किया जाता है।

 

You might also like