रेप केस में एसआईटी गठित

आरोपी पुलिस गिरफ्त से बाहर, घटनास्थल पर पहुंचे डीजीपी मरड़ी

शिमला —शिमला में बीते रोज एक युवती के साथ हुए रेप मामले की जांच के लिए पुलिस ने एसआईटी गठित कर दी है। एएसपी प्रवीर ठाकुर की अध्यक्षता में यह एसआईटी गठित की गई है। पुलिस महानिदेशक एसआर मरडी ने मंगलवार को ढली थाने सहित घटना स्थल का दौरा कर एसआईटी गठित करने के निर्देश दिए। ऐसे में एएसपी शिमला प्रवीर ठाकुर की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय एसआईटी का गठन किया गया। एसआईटी ने अपनी जांच शुरू कर दी है। इसके साथ ही राज्य सरकार ने लकड़ बाजार पुलिस चौकी पर लग रहे कथित लापरवाही के आरोपों की न्यायिक जांच के आदेश दे दिए हैं। प्रदेश पुलिस महानिदेशक एसआर मरडी ने जांच के लिए एसआईटी गठित किए जाने की पुष्टि की है। एसआईटी का गठन अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रवीर ठाकुर की अध्यक्षता में किया गया है।  साथ ही अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीकांत बाल्दी ने मंगलवार को इस मामले पर अधिकारियों के साथ बैठक की।   सूचना के अनुसार इस दौरान  एसपी शिमला ने अब तक  अमल में लाई गई जांच की जानकारी दी।  अतिरिक्त मुख्य सचिव बाल्दी ने अधिकारियों को जल्द दोषियों को पकड़ने के निर्देश दिए। उधर इस मामले में विभिन्न सामाजिक संगठनों और राजनीतिक दलों ने भी धरने प्रर्दशन किए और राज्यपाल व पुलिस महानिदेशक को ज्ञापन सौंप दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।   दूसरी तरफ पीडि़त युवती ने सीजेएम कोर्ट चक्कर में भी अपना बयान दर्ज करवा दिया है। 

 24 घंटे में मांगी रिपोर्ट

शिमला। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने   दोषियों को पकड़ने के लिए पुलिस महानिदेशक को विशेष जांच दल एसआईटी गठित करने के निर्देश दिए हैं।  सीएम ने कहा कि  लक्कड़ बाजार पुलिस चौकी में तैनात कर्मियों द्वारा  प्राथमिकी रिपोर्ट एफआईआर दर्ज न करने का आरोप है। इसकी जांच के लिए अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी शिमला प्रभा राजीव की अध्यक्षता में मजिस्ट्रियल जांच करने के लिए निर्देश दिए गए हैं  तथा उन्हें   रिपोर्ट 24 घंटे के भीतर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं।

You might also like