रोहतांग टनल से 544 लोग आर-पार

पांच महीने बाद घर पहुंचे लाहुली, कुल्लू से धुंधी तक चलीं एचआरटीसी बसें

मनाली – चार हजार करोड़ रुपए की लागत से तैयार हो रही रोहतांग टनल के द्वार एक बार फिर लोगों के लिए खोल दिए गए। बुधवार को करीब 544 लोग टनल से आर-पार हुए। ऐसे में लाहुल-स्पीति के लोगों के लिए बुधवार का दिन कुछ खास रहा। लोकसभा चुनाव को ध्यान में रख चुनाव आयोग ने जहां एमओडी (मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस) से विशेष आग्रह किया है कि चुनाव से पहले लाहुल-स्पीति से बाहर फंसे लोगों को रोहतांग टनल के माध्यम से लाहुल पहुंचाया जाए, वहीं एमओडी ने आयोग के आग्रह पर बुधवार को करीब 544 लोगों को सुरंग से जाने की अनुमति प्रदान की। ऐसे में करीब पांच महीने बाद जहां लोग अपने घर पहुंचे, वहीं कुछ लोग घाटी से बाहर भी आए। बुधवार सुबह एचआरटीसी की छह बसें कुल्लू से धुंधी के बीच दौड़ाई गई। इन बसों में लाहुल जाने वाले लोगों को धुंधी पहुंचाया गया, वहीं, केलांग की तरफ से भी एचआरटीसी की बसों में लोग बैठ रोहतांग टनल के नोर्थ पोर्टल में पहुंचे। यहां से बीआरओ के वाहनों से लोगों को टनल पार करवाई गई। दिन भर जहां यह सिलसिला चलता रहा, वहीं लोगों ने लाहुल-स्पीति प्रशासन व बीआरओ का आभार भी व्यक्त किया। उपायुक्त अश्वनी कुमार चौधरी ने बताया कि बुधवार को कुल्लू से लाहुल की तरफ 372 और लाहुल से कुल्लू की तरफ 172 लोग टनल के माध्यम से आए हैं। उन्होंने बताया कि 544 लोगों को सुरंग से आर-पार करवाने में प्रशासन कामयाब रहा है। प्रशासन के पास आवेदन करने वाले लोगों को टनल के माध्यम से मंजिल तक पहुंचाया गया है। बुधवार को एचआरटीसी के केलांग डिपो की बसों से लोगों को टनल के दोनों छोरों पर पहुंचाया गया।

You might also like