रौरिक ट्रस्ट में सजी प्रदर्शनियां

पतलीकूहल—अंतरराष्ट्रीय रौरिक मैमोरियल ट्रस्ट नग्गर में कला उत्सव की अगली कड़ी में दिल्ली के विख्यात कलाकार घनश्याम कश्यप की चित्रकला पर आधारित प्रदर्शनी का उद्घाटन नग्गर पंचायत की प्रधान सुषमा शर्मा ने किया। इस अवसर पर मुख्यातिथि ने कलाकार की कलाक्षमता की सराहना करते हुए कहा कि कलाकार के उत्कृश्ठ चित्र कला के अनुपम उदाहरण हैं। भारतीय चित्रकला के विकास व अंतरराट्रीय कला जगत में भारतीय कला के प्रतीक हैं। रौरिक ट्रस्ट प्रबंधन द्वारा नग्गर पंचायत प्रधान सम्मुख पर्यटकों की सुविधा के दृष्टिगत ट्रस्ट क्षेत्र में शौचालय, पार्किंग और स्ट्रीट लाइटें नग्गर चौक से लेकर रौरिक आर्ट गैलरी तक स्थापना की मांग रखी। प्रधान महोदया ने प्रस्ताव प्राप्त होने पर हर सम्भव सहायता व सहयोग का आश्वासन दिया। कलाकार घनश्याम कश्यप द्वारा देश विदेश की अनेक कलादीर्घाओं में अपनी कला कौषल का प्रदर्षन कर चुके हैं। वास्तुशिल्प, बौद्ध कला, आधुनिक कला, परिकल्पना, प्रकृति व जनजीवन कलाकार की कला के विषय हैं। वाराणसी का रात्रि का जीवंत चित्र, महात्मा बुद्ध के चित्र व आधुनिक कला के कैन्वास व कागज पर बनाए गए चित्र भारी संख्या में देश- विदेश के कलाकारों व जन साधारण को आकर्षित कर रहे हैं। नदी नालों में उपलब्ध गोल पत्थरों पर चित्रित कला के नमूने बेरोजगार कला प्रतिभाओं को स्वरोजगार की ओर आकर्षित करेंगे। प्रदर्शनी उद्घाटन समारोह  के अवसर पर कुल्लू घाटी के गणमान्य, तमिलनाडू की कला प्रेमी राज लक्ष्मी, सोनिया, शिवानी, रेणु, दमित्री सुरगिन, नरेंद्र कुमार, देश-विदेश के पर्यटकों ने भाग लिया। इस प्रदर्शनी में लगभग 55 चित्र प्रदर्शन पर हैं।

You might also like