वर्कर्ज की सांसें सुखा गए चुनाव

एग्जिट पोल से भाजपा कार्यकर्ता खुश, कांग्रेस में छाई मायूसी, हर मोड़ पर हो रही चुनावी चर्चा

ठियोग –गुरुवार को निकलने वाले लोकसभा के चुनाव परिणाम को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं की सांसे अटक गई है। एग्जिट पोल आने के बाद जहां भाजपा में खुशी का माहौल देखने को मिल रहा है। वहीं दूसरी कांग्रेस कार्यकर्ता जहां एग्जिट पोल को झूठा बता रहे हैं वहीं वे इस अनुमानित परिणाम से मायुस भी लग रहे हैं। ठियोग विधानसभा क्षेत्र से लीड यदि भाजपा की रहती है तो निश्चित तौर से पार्टी इसका श्रेय पूर्व विधायक राकेश वर्मा को देगी। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण ये माना जा रहा है कि डेढ़ साल के बाद पार्टी गतिविधियों से दूरियां बनाने के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने लोकसभा चुनाव से पहले राकेश वर्मा को इसलिए सक्रिय किया क्योंकि ठियोग विधानसभा क्षेत्र में वर्मा का अपना जनाधार है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने भी पहली बार ऊपरी शिमला से प्रदेश अध्यक्ष बनाकर एक दांव ये भी खेला है कि हर चुनाव में कांग्रेस अपना जनाधार खोती हुई नजर आ रही है ऐसे में ठियोग विधानसभा क्षेत्र के कुमारसैन से कुलदीप राठौर के ऊपर जहां जिला शिमला से कांग्रेस को बढ़त दिलाने की जिम्मेदारी है वहीं दूसरी ओर अपने हलके ठियोग से भी कांग्रेस लीड लेगी या नहीं इस बात की जवाबदेही पार्टी अध्यक्ष कुलदीप राठौर को देनी होगी। यहां पर विधानसभा चुनाव की बात की जाए तो ठियोग में लोगों ने कांग्रेस भाजपा को छोड़कर एक तीसरे विकल्प को चुना था और कामरेड यहां से सीट निकालने में कामयाब हुए थे। विधानसभा चुनाव में राकेश सिंघा को जहां 24 हजार मिला था वहीं भाजपा प्रत्याशी राकेश वर्मा को 22 हजार से अधिक वोट पड़ा था। जबकि नौ हजार वोट लेकर कांग्रेस ने अपनी जमानत जब्त करवाई थी। अब लोकसभा चुनाव में ठियोग हलके में सबसे बड़ी चर्चा का विषय ये बना हुआ है कि मोदी लहर के चलते इसमें से कितना वोट किधर शिफ्ट हुआ होगा जो ठियोग में किसी भी पार्टी की लीड को तय करेगा। ऊपरी शिमला के बाकि विधानसभा क्षेत्रों की यदि बात की जाए तो चौपाल विधानसभा क्षेत्र से भाजपा की सबसे अधिक लीड आने की चर्चा है जबकि रोहडू से कांग्रेस की लीड बताई जा रही है इसके साथ जुब्बल कोटखाई में भी भाजपा की लीड बताई जा रही है। हालांकि नरेंद्र बरागटा को सरकार में केबिनेट रैंक न मिलने से हलके के लोगों में इस बात मलाल जरूर है लेकिन माना ये जा रहा है इस क्षेत्र से भाजपा को लीड मिलने के आसार हैं। गुरूवार को होनी वाली मतगणना को लेकर विभिन्न पार्टियों के कार्यकर्ता चुनाव परिणाम को लेकर उत्साहित हैं। बुधवार को ठियोग में हर टेबल पर यहीं चर्चा हो रही थी कि शिमला संसदीय क्षेत्र से आखिर जीत किसकी रहेगी। ऐग्जिट पोल के र्स्वे हिमाचल में चारों सीटें भाजपा के पक्ष में बता रहे हैं। यदि शिमला संसदीय क्षेत्र की सीट भी भाजपा को मिलती है तो इससे यहां के कार्यकर्ताओं की साख बढ़ेगी। बहरहाल कुछ कार्यकर्ता बुधवार को ही शिमला पहुंच गए हैं और सभी ने अपने-अपने ठहरने की भी व्यवस्था कर रखी है। मतों की गिनती धामी में होनी है इस कारण सभी शिमला की ओर रूख कर रहे हैं।

You might also like