वाह! 74 वोटर  77 साल से चुन रहे सरकार

कांगड़ा जिला में कई परिवारों की चार पीढि़यां लोकसभा में एक साथ डालेंगी वोट

धर्मशाला    —प्रदेश सबसे बड़े व राजनीति में अहम स्थान रखने वाले कांगड़ा जिला में ऐसे में दर्जनों मतदाता हैं, जिन्होंने इस देश में हुए पहले चुनाव से लेकर आजतक मतदान करते हुए लोकतंत्र में अपनी अहम भूमिका निभाई है। यह सभी लोग हमारे लोकतंत्र के 77 वर्षों की स्वर्णिम यात्रा के साक्षात प्रमाण हैं। कांगड़ा जिला में सबसे अधिक आयु के दो मतदाता 108 वर्ष की उम्र में अपने मताधिकार का प्रयोग करने वाले हैं। 107 साल की आयु में एक और तीन लोग 106 साल की आयु में मतदान करेंगे। जिला में कुल 74 मतदाता ऐसे हैं, जो 100 साल की आयु पूरी करने के बाद मतदान करने वाले हैं। इनमें जवाली विधानसभा क्षेत्र से सर्वाधिक 10 लोग ऐसे हैं, जो 100 साल से अधिक आयु के हैं और अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे, जबकि शाहपुर से सबसे कम एक व्यक्ति 102 वर्ष के हैं, जो अपने मतदाधिकार का प्रयोग करने वाले हैं।  कांगड़ा जिला प्रशासन ने बाकायदा ऐसे बुजुर्ग मतदाओं का विवरण तैयार किया है। यह सभी शतकवीर मतदाता अन्य लोगों से मतददान करने के लिए आह्वान कर रहे हैं।   जिला में मौजूदा समय में 74 लोगों की पहचान की गई है। ये सभी लोग हमारे लोकतंत्र के 77 वर्षों की स्वर्णिम यात्रा के साक्षात प्रमाण हैं। यह वे लोग हैं, जिन्होंने इस देश में हुए पहले चुनाव से लेकर आजतक मतदान करते हुए अपनी अहम भूमिका लोकतंत्र में निभाई है। इन अति वरिष्ठ नागरिकों में कई परिवारों की चार पीढि़यां एक साथ अपने मतदाधिकार का प्रयोग करने जा रही हैं। उधर, उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी संदीप कुमार का कहना है कि ऐसे अति वरिष्ठ नागरिकों के सम्मान के लिए निर्वाचन विभाग  ने इन्हें लोकतंत्र के प्रकाश स्तंभ का नाम दिया है। कुल मिलाकर लोकसभा    चुनाव को लेकर प्रदेश में माहौल पूरी से गरमा गई गया है। दोनों पार्टियों मतदाता को अपनी ओर रिझाने का प्रयास कर रही है लेकिन यह तो आने वाला समय ही बताएगा कि प्रदेश का मतदाता कौन सा बटन दबाता है। चुनावों को लेकर लोगों में भी खासा उत्साह है।

जिला के शतकवीर

जिलाभर के विभिन्न हलकों का हाल देखें तो नूरपुर से आठ, इंदौरा से पांच, फतेहपुर से आठ, जवाली से 10, देहरा से सात, जसवां परागपुर से छह, ज्वालामुखी से छह, जयसिंहपुर से सात, सुलाह से तीन, नगरोटा बगवां से चार, कांगड़ा से तीन, शाहपुर से एक, धर्मशाला से दो, पालमपुर से दो और बैजनाथ से भी दो शतकवीर अपने मताधिकार का प्रयोग कर अपने सांसद का चुनाव करेंगे।

You might also like