विश्वकप में ‘गॉड फादर’ के रूप में उतरेंगे धोनी

 

विश्वकप में ‘गॉड फादर’ के रूप में उतरेंगे धोनी

नयी दिल्ली-पूर्व भारतीय कप्तान और मौजूदा विकेटकीपर बल्लेबाज़ महेंद्र सिंह धोनी 30 मई से होने वाले एकदिवसीय विश्वकप में गॉड फादर के रूप में उतरेंगे। धोनी इंग्लैंड की ज़मीन पर होने वाले विश्वकप के सबसे अनुभवी खिलाड़ी होंगे। वह इस टूर्नामेंट में एकमात्र ऐसे खिलाड़ी के रूप में उतरेंगे जिसने 300 से अधिक मैच खेल रखे हैं। अपना चौथा विश्वकप खेलने जा रहे धोनी अब तक भारत की ओर से 338 वनडे मैच खेल चुके हैं। इस विश्वकप की 10 टीमों में अन्य कोई खिलाड़ी ऐसा नहीं है जिसने 300 मैच खेले हैं।भारत को अपनी कप्तानी में 2011 में विश्वकप जिता चुके और 2015 के विश्वकप में सेमीफाइनल तक पहुंचा चुके 37 वर्षीय धोनी का यह आखिरी विश्वकप होगा। धोनी अपने अंतिम विश्वकप को एक अौर खिताबी जीत के साथ यादगार बनाना चाहेंगे। भारतीय टीम में कप्तान विराट कोहली 227 मैच, उपकप्तान रोहित शर्मा 206 मैच, रवींद्र जडेजा 151 मैच, शिखर धवन 128 मैच और भुवनेश्वर कुमार 105 मैच खेल चुके हैं। अनुभव और वनडे में ज्यादा मैच खेलने के मामले में धोनी के सबसे नज़दीकी प्रतिद्वंद्वी वेस्टइंडीज़ के क्रिस गेल हैं जिन्होंने 286 मैच खेले हैं। पिछले कुछ वर्षाें में अधिकतर समय विंडीज़ टीम से बाहर रहने वाले गेल को इस विश्वकप के लिये कैरेबियाई टीम में शामिल किया है। वह वेस्टइंडीज़ की टीम में 150 से अधिक वनडे खेलने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं। वेस्टइंडीज़ की टीम 1975 और 1979 में विश्वकप विजेता रही थी।

 

You might also like