वीरभद्र के गढ़ में भगवा

रामपुर बुशहर—नरेंद्र मोदी की लहर ने पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के दुर्ग को भी भेद दिया। इस विधानसभा क्षेत्र में न केवल भाजपा ने 11 हजार की लीड अर्जित की, बल्कि गत लोकसभा चुनाव में कांग्रेस  को मिली दस हजार की लीड को भी तोड़कर कांग्रेस को जबरदस्त शिकस्त दी है। रामपुर मंे पद्म वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला मतगणना का क्रम चला। सुबह आठ बजे से शुरू हुई मतगणना में कुल 11 राउंड हुए। दोपहर एक बजे तक सभी राउंड का परिणाम सार्वजनिक हो गया। रामपुर विधानसभा क्षेत्र के कुल 150 पोलिंग बूथों में 51 हजार 374 वोट पड़े, जिसमें भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप शर्मा को 28 हजार 5,59 वोट पड़े। जबकि दूसरे नंबर पर रहे कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा को 17 हजार 009 वोट प्राप्त हुए। वहीं, तीसरे नंबर पर कम्युनिस्ट पार्टी के दलीप कायथ रहे। उन्हें यहां से मात्र 3273 वोट मिले। परिणाम आने के बाद भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप शर्मा को 11 हजार 550 मतों की लीड की आधिकारिक घोषणा कर दी गई। जहां गत लोकसभा चुनाव में रामपुर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस को दस हजार की लीड मिली थी। वह इस कांग्रेस न तो अपनी लीड बचा पाई उल्टे भाजपा को एक शानदार लीड दे बैठी। भाजपा ने पिछले तीन चुनावों में रामपुर के भीतर जबरदस्त पकड़ बनाते हुए अपने वोट बैंक को मजबूत किया है। कम्युनिस्ट पार्टी के प्रत्याशी भी यहां से कुछ खास नहीं कर पाए। इसके अलावा अन्य दलों के पांच उम्मीदवार 100 से 150 मतों में ही सिमट गए। मुख्य लड़ाई कांग्रेस और भाजपा के बीच में रही। हर राउंड के बाद भाजपा के पक्ष में लीड गई। भाजपा खेमा रामपुर में लीड पाने के बाद खासा उत्साहित दिखा। जैसे ही भाजपा के पक्ष मंे मतगणना का क्रम चला स्कूल परिसर के बाहर ढोल-नगाड़े, पटाखे, मिठाइयां बंटना शुरू हो गईं। पूरे शहर में भाजपा ने नाचगाकर इस जीत के जश्न को मनाया। इस मौके पर भाजपा मंडलाध्यक्ष शशिभूषण श्याम, पूर्व खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री सिंघीराम, पीएस द्रैक, बृजलाल, विजय गुप्ता, सुषमा मखैक, नरेश चौहान सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहे।

42 साल बाद कांग्रेस का गढ़ धवस्त

मोदी लहर इस बार कांग्रेस के अभेदय गढ़ को भी बहा ले गई। पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के गृहक्षेत्र में इस बार भाजपा को 42 वर्षों के बाद लीड मिली। यानी रामपुर में भाजपा ने एक इतिहास कायम किया है। लीड का जश्न भी भाजपा कार्यकर्ताओं के सिर चढ़कर बोला। भाजपाइयों ने न केवल पटाखे फोड़कर खुशियां मनाईं, बल्कि पूरे शहर में नाचगाकर व नाटी डालकर जश्न को दोगुणा कर दिया।

You might also like