शपथ पर राजनीति के आरोप, नहीं आएंगी ममता बनर्जी

कोलकाता – पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी गुरुवार को नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के समारोह में शामिल नहीं होंगी। तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख सुश्री बनर्जी ने ट््विटर पोस्ट में शपथ ग्रहण समारोह में नहीं आने का कारण मीडिया की उन रिपोर्टों को बताया है, जिनमें भाजपा के पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा में 54 लोगों की हत्या किए जाने का दावा किया गया है और उनके परिजनों को प्रधानमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का न्यौता दिया गया है। मुख्यमंत्री ने अपनी पोस्ट में लिखा कि नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी बधाई। मेरी इच्छा ‘संवैधानिक निमंत्रण’ स्वीकार कर प्रधानमंत्री शपथ ग्रहण में शामिल होने की थी। पिछले एक घंटे के दौरान, मैं मीडिया रिपोर्ट देख रही हूं, जिसमें भाजपा ने बंगाल में राजनीतिक हिंसा में 54 लोगों की हत्या का दावा किया है। यह रिपोर्ट पूरी तरह असत्य है। बंगाल में कोई राजनीतिक हत्या नहीं हुई है। ये हत्याएं निजी दुश्मनी, पारिवारिक झगड़ों और अन्य विवादों के वजह से हो सकती हैं। इन हत्याओं का राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है और हमारे पास ऐसा कोई रिकार्ड नहीं है। इसलिए, नरेंद्र मोदी जी मुझे क्षमा करें, मैं मजबूरन शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पा रही हूं। ट््विटर पोस्ट में लिखा गया है कि प्रधानमंत्री पद का शपथ ग्रहण समारोह लोकतंत्र के पर्व को मनाने का पुनीत अवसर है। किसी राजनीतिक दल द्वारा इसका मान नहीं गिराया जाना चाहिए। इस अवसर को अपने राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल नहीं करें। कृपया मुझे माफ कीजिएगा। गौर हो कि इससे पहले सुश्री बनर्जी की तरफ से मंगलवार को कहा गया था कि वह शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए बुधवार शाम दिल्ली पहुंच जाएंगी। श्री मोदी गुरुवार शाम राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे।

You might also like