शहर के हर वार्ड में होंगी जल सखियां

शिमला—शिमला शहर के हरेक वार्ड मंे अब जल सखियां मोर्चा संभालेंगी। वार्ड की प्रबुद्ध महिलाओं को पानी की समस्याआंे को सुलझाने का जिम्मा सौंपा जा रहा है। शिमला में पेयजल की व्यवस्था के लिए सरकार ने शिमला जल प्रबंधन निगम लिमिटेड के नाम से कंपनी बनाई है, जिसके बनने के बाद शहर में पानी की समस्या भी दूर हुई है। वर्ल्ड बैंक के प्रोजेक्ट को सिरे चढ़ाने के लिए सरकार ने इस कंपनी को बनाया है   और वर्ल्ड बैंक का प्रोजेक्ट अभी तैयार होने में समय लगेगा। इससे पहले ही इस कंपनी ने अपने कई तरह के प्रयासों से शहर में जलापूर्ति की व्यवस्था में सुधार ला दिया है। इसी के तहत प्रत्येक वार्ड मंे वहां की प्रबुद्ध महिलाओं को जल सखियां बनाकर विशेष जिम्मेदारी सौंपी गई हैं। इन जल सखियों को बताया जा रहा है कि उन्हें क्या काम करना है। पानी को लेकर उनके वार्ड की जनता की समस्याओं को जानना और उसके निराकरण के लिए जल प्रबंधन निगम को इसकी सूचना देने का काम उनका होगा। इसके साथ वह देखेंगी कि कहां पर पानी की लीकेज हो रही है और कहां पर पानी नहीं आ रहा है, इसके क्या कारण हैं। वार्ड स्तर पर इस तरह की कोई व्यवस्था अभी तक शहर में नहीं थी। खास तौर पर इस काम को अंजाम देने के लिए महिलाओं को चुना गया है। इसकी एवज में महिलाओं को कुछ मेहनताना भी दिया जाएगा, जिसे लेकर अभी निर्णय नहीं हो सका है। मंगलवार को शहर में अलग-अलग वार्डों में चुनी गईं जल सखियों के साथ जल प्रबंधन निगम के अधिकारियों ने बैठक की। इस बैठक में उनसे उनके वार्ड की स्थिति के बारे में जाना गया और उनको क्या परेशानियां पेश आ रही हैं इसके बारे मंे जाना गया। भविष्य में इन जल सखियों का काम क्या रहेगा इस पर भी उन्हें जानकारी दी गई है। जल प्रबंधन निगम के एसडीओ महबूब शेख ने इनके साथ बैठक की।

बेहतर सुविधाएं देने की कोशिश

शिमला नगर निगम मंे 34 वार्ड हैं, जिसमें शहरी क्षेत्र के साथ कुछ ग्रामीण क्षेत्र भी जोड़े गए हैं। साथ लगते इन क्षेत्रों मंे भी बेहतर मूलभूत सुविधाएं प्रदान करने की कोशिशें हो रही हैं। योजना के अनुसार प्रत्येक वार्ड में पांच-पांच महिलाओं को जल सखियों के रूप में तैनाती दी जा रही है।

शहर में नहीं पानी का संकट

इन गर्मियों में शिमला मंे पानी का संकट नहीं रहा है। चाबा से गुम्मा को पानी लाकर शहर की व्यवस्था को बेहतर बनाया गया है। वहीं, दूसरे जल स्त्रोतों से भी क्षमता के अनुसार पानी आ रहा है, जिससे शहर के लोग भी खुश हैं।

You might also like