शहीद की प्रतिमा स्थापित करने को छड़ेंगे हस्ताक्षर अभियान

बनूरी (पालमपुर)—मातृभूमि की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले एक शहीद की प्रतिमा स्थापित करने के लिए हस्ताक्षर अभियान शुरू किया जाएगा। शहादत पर अनेक वादे करने वाले नेता समय के साथ अपनी बातों को भूल जाते हैं और अशोक चक्र विजेता मेजर सुधीर वालिया की प्रतिमा अब तक स्थापित न हो पाना इसका प्रमाण दे रहा है। मेजर सुधीर वालिया की शहादत को 20 वर्ष का समय बीत चुका है और 24 मई को उनके जन्मदिन पर बनूरी पहुंचे उत्तर प्रदेश के युवक अभिषेक गौतम ने शहीद मेजर की प्रतिमा स्थापित करवाने के लिए हस्ताक्षर अभियान शुरू करने की बात कही है। उत्तर प्रदेष के हापुड़ के रहने वाले अभिशेक गौतम वही युवक है जिसने करीब छह सौ षहीदों के टैटू अपने षरीर पर गुदवाए हैं। यह अभिशेक का षहीदों को सम्मान देने का अपना अंदाज है और इस बार मेजर सुधीर वालिया के जन्मदिन पर वह बनूरी पहुंचे तो उनके षरीर पर षहीद सुधीर वालिया का टैटू भी नजर आ रहा था। अभिशेक षहीद मेजर सुधीर वालिया की प्रतिमा स्थापित करनवाने को कटिबद्ध है और राजनेतओं व प्रषासन तक अपनी बात पहुंचाने के लिए वह हस्ताक्षर अभियान षुरु करने जा रहे हैं। अभिशेक की तमन्ना है कि ‘रैंबो‘ के षहादत दिवस 29 अगस्त तक इस विशय में कुछ तो प्रगति हो। 24 मई को रैंबो सुधीर वालिया के जन्मदिन पर उनके घर पहुंच कर अनेक लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित की वहीं बनूरी स्कूल में एक कार्यक्त्रम का आयोजन भी किया था। मेजर सुधीर वालिया को उनकी बहादुरी के लिए रैंबो नाम दिया गया था और 29 अगस्त 1999 को कुपवाड़ा के जंगलों में आतंकवादियों से जूझते हुए षहादत पाई थी। उनको मरणोपरांत अषोक चक्त्र से सम्मानित किया गया था। उनके परिजन लंबे समय से षहीद बेटे की प्रतिमा लगाने की मांग करते आ रहे हैं। अभिशेक कहते हैं कि षहीदों की याद बनाए रखने के लिए प्रतिमा या समाधि स्थल का निर्माण अवष्य होना चाहिए।

भावुक हुआ माहौल

अशोक चक्र विजेता मेजर सुधीर वालिया के जन्मदिन पर उनके निवास का माहौल तब भावुकतापूर्ण हो गया, जब दो शहीदों की माताएं मिलीं। कारगिल शहीद कै सौरभ कालिया की माता विजय कालिया जब मेजर सुधीर वालिया की माता राजेश्वरी देवी से मिलीं, तो बरबस ही दोनों की आंखें भर आईं।

You might also like