शिमला से मेरठ शिफ्ट होगी आर्मी ट्रेनिंग कमांड!

आरट्रैक को सैन्य महानिदेशालय के साथ रखने का प्रस्ताव, जमीन-भवन का निरीक्षण पूरा

शिमला -आर्मी ट्रेनिंग कमांड को शिमला से मेरठ शिफ्ट किया जा सकता है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, आर्मी ट्रेनिंग कमांड को दिल्ली से करीब 70 किलोमीटर दूर मेरठ में किया जा सकता है। इस कदम को उठाने से पहले सेना ने जमीन व भवनों का निरीक्षण कर लिया है। बताया गया कि आरट्रैक को सैन्य प्रशिक्षण महानिदेशालय के साथ ही रखने का प्रस्ताव तैयार हो चुका है। इस विलय को भारतीय सेना के पुनर्गठन का हिस्सा बताया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि मार्च 1993 में आर्मी ट्रेनिंग कमांड को मध्य प्रदेश के मऊ से शिमला लाया गया था। सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर इस मसले को प्रधानमंत्री व रक्षा मंत्री से मिलकर इस बात को सुनिश्चित करने का प्रयास करेंगे कि प्रतिष्ठित सेना प्रशिक्षण कमान का न तो विलय किया जाए और न ही इसे शिमला से स्थानांतरित किया जाए। आरट्रैक सेना की रणनीति, परिचालन कला, लॉजिस्टिक्स, प्रशिक्षण व मानव संसाधन विकास के क्षेत्र में अवधारणाओं व युद्ध के सिद्धांतों के निर्माण व प्रसार से संबंधित हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सेना ने यह योजना इसलिए भी बनाई है, ताकि खर्च व मुख्यालय से पहाड़ी क्षेत्र तक यात्रा करने में होने वाले समय को बचाया जा सके। तर्क यह भी है कि मुख्यालय को बेहतर ढांचा उपलब्ध करवाने की जरूरत है। सैन्य प्रशिक्षण महा निदेशालय इस वक्त दिल्ली में है। हालांकि अभी तक इसका अंतिम फैसला नहीं हुआ है, लेकिन शिमला से शिफ्ट करने का प्रस्ताव तैयार कर दिया है। ऐसे में अब प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी लोकसभा चुनाव के बाद केंद्र की नई सरकार में बनने वाले रक्षा मंत्री के समक्ष आर्मी कमांड को शिफ्ट न करने के बारे अपना पक्ष रखेंगे।

You might also like