श्रीरेणुकाजी में धूमधाम से मनाई परशुराम जयंती

श्रीरेणुकाजी—उत्तरी भारत के प्रसिद्ध तीर्थस्थल श्रीरेणकाजी में मंगलवार को भगवान परशुराम जयंती पारंपरिक एवं धूमधाम से मनाई गई। सिरमौर के अतिरिक्त पड़ोसी राज्य हरियाणा से आए सैकड़ों की तादात में श्रद्धालुओं ने श्री रेणुकाजी स्थित परशुराम मंदिर में शीश नवाया और भगवान परशुराम का आशीर्वाद प्राप्त किया। श्रीरेणुकाजी विकास बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी दीपराम शर्मा ने जानकारी दी कि धार्मिक ग्रंथों के अनुसार बैसाख मास की शुक्ल तृतीय को विष्णु भगवान के छठे अवतार के रूप में परशुराम ने जन्म लिया था और यह दिवस अक्षय तृतीय के रूप में भी जानी जाती है। उन्होंने कहा कि परशुराम जयंती के उपलक्ष्य पर सोमवार को ददाहू से रेणुका तक शोभा यात्रा निकाली गई थी, जिसमें भगवान परशुराम की जामूकोटी और कटाहं शीतला से आई पालकियां लोगों के लिए आकर्षण का प्रमुख केंद्र रही और सैकड़ों लोगों ने भगवान परशुराम की पालकियों के दर्शन करके आशीर्वाद प्राप्त किया। मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने बताया कि परशुराम जयंती के उपलक्ष्य पर भगवान परशुराम मंदिर में हवन यज्ञ का भी आयोजन किया गया। उन्होंने कहा कि मंदिर में मंगलवार को प्रातः से ही लोगों की आवाजाही शुरू हो गई थी और लोगों को मंदिर में क्रमवार दर्शन करवाए गए। उन्होंने कहा कि सोमवार रात्रि को मंदिर में भजन संध्या का भी आयोजन किया गया। उन्होंने बताया कि परशुराम जयंती के अवसर पर सैकड़ों लोगों द्वारा श्रीरेणुका झील के पवित्र जल में स्नान किया गया।

You might also like