सड़क नहीं, तो वोट भी नहीं

समलैटा के सात गावों के ग्रामीणों की दो टूक, लोकसभा चुनावों का करेंगे बहिष्कार, आज तक नहीं मिली सुविधा

बनीखेत -भटियात हलके की ढलोग पंचायत के समलैटा क्षेत्र के सात गावों के लोगों ने सड़क सुविधा न होने के चलते लोकसभा चुनावों के बहिष्कार का निर्णय लिया है। ढलोग पंचायत के प्रधान मनजीत सिंह की अगुवाई में प्रतिनिधिमंडल ने एसडीएम डलहौजी डा. मुरारी लाल को ज्ञापन सौंपकर अपने भावी फैसले की जानकारी भी दे दी है। एसडीएम डलहौजी को सौंपे गए ज्ञापन में ग्रामीणों का कहना है कि ढलोग पंचायत के गांव धारद-एक, धारद-दो, बगोता-एक, बगोता-दो, समलैटा-एक, समलैटा-दो व धार गांव की पांच सौ अधिक आबादी को आजादी के सात दशकों बाद भी सड़क सुविधा नसीब नहीं हो पाई है। इन गांवों के लिए सड़क न होने से जहां क्षेत्र आज भी विकास की मुख्य धारा में शामिल नहीं हो सका है वहीं क्षेत्र लोगों को काफी समस्याओं से दो-चार होना पड़ रहा है। गांव में किसी के बीमार हो जाने अथवा प्रसुति महिला को उपचार के लिए पालकी में बिठाकर तीन से चार किलोमीटर सीधी चढ़ाई चढ़कर मुख्य सड़क तक पहुंचाना पड़ता है। इतना ही नहीं, इन गांवों के बच्चों को भी जंगल से होकर गुजरने वाली कच्ची पगडंडी से रोजाना पैदल स्कूल आना-जाना पड़ता है। इसमें हर समय जंगली जानवरों के हमले का भी भय लगा रहता है। प्रतिनिधिमंडल के अनुसार गांव के लिए सड़क हेतु सर्वे तो करवाया गया,  जिसके बाद लोगों से सड़क निर्माण में आने वाली निजी जमीनों को लोनिवि के नाम करवाने को कहा गया। लोगों ने करीब एक वर्ष पहले निजी जमीनें भी विभाग के नाम कर दी। परंतु इसके बावजूद सड़क निमरण का कार्य अभी तक शुरू नहीं हो पाया है,  जिसके रोष स्वरूप क्षेत्र के लोगों ने लोकसभा चुनावों के साथ-साथ जबतक सड़क निर्माण नहीं हो जाता तब तक विधानसभा व पंचायती राज चुनावों का भी बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। प्रतिनिधिमंडल ने एसडीएम डलहौजी को अवगत करवाया कि अब वह सड़क निर्माण शुरू होने पर ही चुनावों में मतदान करेंगे। उधर, एसडीएम डलहौजी ने बताया कि लोगों को मतदान का बहिष्कार न करने को लेकर समझाया गया है। जहां तक सड़क निर्माण की बात है, तो इस संबंध में उपायुक्त चंबा को ज्ञापन प्रेषित कर दिया गया है। क्षेत्र के लोगों से संयम रखने व मतदान अवश्य करने की अपील भी की गई है।  डलहौजी। उपमंडल के बैली पंचायत के गांव अप्पर भटोली, लोअर भटोली, द्रबड व् लाहड़ के अधीन पड़ने वाले गांव के लोग जिओ कंपनी के लचर मोबाईल सिग्नल की वजह से काफी परेशान है। इंटरनेट युग में मोबाईल सिग्नल पूरा उपलब्ध न होने से लोगो को ई सेवाओं का भी लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। कहने को तो क्षेत्र में जियो का मोबाईल सिग्नल उपलब्ध है मगर काफी कम।  बैली पंचायत के प्रधान रवि कुमार ने क्षेत्रवासियों की ओर से जियो कंपनी के अधिकारियों से क्षेत्र में मोबाईल सिग्नल सुदृढ़ करने की मांग की है।

You might also like