समय पर एंबुलेंस न मिलने पर नवजात की मौत

चंबा—मेडिकल कालेज चंबा में शुक्रवार को नवजात बच्चे को एंबुलेस समय पर न मिलने से बीच रास्ते में ही मौत हो गई। परिजनों ने इस घटना की शिकायत पुलिस थाना चंबा में देकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग है। पुलिस में दिए गए शिकायत पत्र में मनीरा बेगम पत्नी रफी मोहम्द निवासी कलेली डाकघर जडेरा का 20 मई को सिजेरियन डिलीवरी से नवजात बच्ची को जन्म दिया था। बच्ची के पेट में स्वेलिंग होने की वजह से टांडा रैफर किया गया। नवजात को एंबुलेंस प्रदान करने के लिए उन्होंने कई बार 108 को फोन किया। मगर एंबुलेंस से पहले ही मरीज को ले जाने की बात कही गई। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन को भी सूचित किया गया, मगर वहां से भी उन्हें निराशा ही हाथ लगी। देर शाम को इस मामले को मीडिया द्वारा एसडीएम चंबा के ध्यान में लाने के बाद रात करीब 12 बजे एबुलेंस मिल पाई। दो बार निजी एंबुलेंस में नवजात को टांडा लेकर जाने की बात कही, तो उन्हें निजी एंबुलेंस की जगह एंबुलेंस प्रदान करने की बात कही गई। मगर रात 12 बजे उन्हें एंबुलेंस दी गई। जब वे लाहडू के पास कालीघार नामक स्थान पर पहुंचें, तो रास्ता बंद होने पर वे सिविल अस्पताल चुवाड़ी लौट आए, जहां चिकित्सक ने बच्ची को मृत घोषित करार दे दिया। परिजनों ने पुलिस में की गई शिकायत में साफ  कहा है कि इस मामले की गहनता के साथ जांच कर दोषी के खिलाफ  कड़ी से कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाए। उधर, एसडीएम सदर दीप्ति मंढोत्रा ने कहा कि वे स्वयं मामले की जांच करेंगी,  जिसके बाद ही इस मामले को लेकर कुछ कहा जा सकता है। उन्होंने बताया कि रात को मेरे ध्यान में मामला आने के बाद एबुलेंस दी गई थी। अब इतनी देर तक एंबुलेंस क्यों नहीं मिली यह एक जांच का विषय है।

You might also like