समीक्षा-साक्षी हैड गर्ल, सुदीप-नमन बने हैड ब्वाय

मंडी—डीएवी सेंटेनरी पब्लिक स्कूल जवाहरनगर मंडी में अलंकरण समारोह मनाया गया। इस दौरान बतौर मुख्यातिथि प्रधानाचार्य केएस गुलेरिया ने शिरकत की।  पर्यवेक्षक प्राध्यापक हरीश पाल के स्वागत स्वागत भाषण के उपरांत सेरेमनी का प्रारंभ किया गया। इस सेरेमनी में 2019-20 के लिए जिन विद्यार्थियों को विभिन्न क्षेत्र का कार्यभार सौंपा गया। इन विद्यार्थियों में सीनियर विंग में हैड (ब्वाय) सुदीप कपूर और नमन वर्मा तथा हैड  (गर्ल) समीक्षा टंडन और साक्षी वर्मा, सेकेंडरी विंग में हैड  (ब्वाय एंड गर्ल) अभिनव चौबे और वैदेही, प्राइमरी विंग में हैड (ब्वाय एंड गर्ल) राघव गुलेरिया और रिदिमा, सीनियर विंग डिसिप्लिन में यतिन और परिणीता, सेकेंडरी डिसिप्लिन में तुषार और शांभवी को चयनित कर सम्मानित किया गया। इसके अतिरिक्त अन्य स्कूल की नियुक्तियों में इलेक्टोरल लिटरेसी क्लब सीनियर विंग में अस्मीत कैप्टन और दिव्यांशी वाइस कैप्टन, ईको क्लब सेकेंडरी विंग में अक्षिता कैप्टन और हिमांगी वाइस कैप्टन, स्पोर्ट्स क्लब सीनियर विंग में सुखदेव कैप्टन और संस्कृति वाइस कैप्टन, स्पोर्ट्स सेकेंडरी विंग में रोमिल कैप्टन और आर्यन शर्मा वाइस कैप्टन, योग क्लब सीनियर विंग में विशालाक्षी कपूर कैप्टन और तनिषा सेठी वाइस कैप्टन,  एंटी नारकोटिक्स एंड ट्रैफिक अवेयरनेस क्लब में कार्तिक ठाकुर कैप्टन और कशिश सेन वाइस कैप्टन,  गांधी सदन से अपूर्वा वैद्य को प्रतिस्पर्धा के लिए सम्मानित किया गया। इसके अतिरिक्त विद्यालय को चार सदनों गांधी, नेहरू, टैगोर और तिलक में विभाजित किया गया। इन सदनों के भी सीनियर, सेकेंडरी व प्राइमरी विंग में कैप्टन और वाइस कैप्टन चयनित किए गए,  जिसमें गांधी सदन से अपूर्वा वैद्य, अमीषा व अवंतिका कैप्टन और श्रेया शर्मा, अन्विता गुलेरिया व देवल टंडन वाइस कैप्टन, नेहरू सदन से श्रेय मल्होत्रा, न्याशी व शौर्या दित्य कटोच कैप्टन और अर्शिया सरोच, सिया व मनस्वी वाइस कैप्टन, टैगोर सदन से मुस्कान, आरती व याशिका कैप्टन और देवांग सहगल, कन्वी व हृदयांश वाइस कैप्टन एवं तिलक सदन से पलक जोशी, स्नेहा व योहान कैप्टन और राघवी कपूर, शान्या व स्वधा वाइस कैप्टन को भी सम्मानित किया गया। प्रधानाचार्य ने अपने संदेश में विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा की विद्यालय के सभी कार्यक्रमों को सुचारू रूप से चलाने के लिए ये नियुक्तियां की गई हंै, ताकि विद्यार्थी अपनी-अपनी जिम्मेदारियों को समझ सकें।  अंत में राष्ट्रीय गान द्वारा कार्यक्रम का समापन किया गया।

You might also like