सरकारी स्कूलों में भी शतरंज की जंग

शिमला – लंबे समय से शतरंज खेल का इंतजार कर रहे छात्रों के लिए अच्छी खबर है। इस बार सरकारी स्कूलों में होने वाले टूर्नामेंट में शतरंज भी शामिल किया जाएगा। शिक्षा विभाग ने शतरंज को अंडर-12 की प्रतियोगिता में शामिल किया है। हाल ही में कुल्लू में हुई प्रारंभिक विभाग की बैठक में इस साल का खेल कैलेंडर जारी किया गया है। इस बैठक में अंडर-12 की प्रतियागिता में शतरंज को भी शामिल किया गया है, यानी इस बार प्राथमिक स्कूलों के छात्र शतरंज खेलेंगे। इसके लिए विभाग ने जिलों को शतरंज में ट्रेंड शिक्षकों का ब्यौरा शिक्षा निदेशालय भेजने को कहा है। विभाग ने इसके लिए ब्लॉक वाइज 20-20 शिक्षकों का ब्यौरा देने को कहा है, जो छात्रों को शतरंज म के लिए तैयार कर सकें। इसके साथ ही ऐसे जेबीटी,  जिन्होंने राज्य  व राष्ट्रीय स्तर पर चैस प्रतियोगिता में भाग लिया है, उनके संबंधित प्रमाण पत्र, रेटिंग भी विभाग ने देने को कहा है। विभाग ने 10 दिन में जिलों को ये ब्यौरा देने के निर्देश दिए हैं। गौर हो कि शिक्षा विभाग जल्द ही स्कूलों में शतरंज का विषय भी शुरू करने जा रहा है। पहली से दसवीं तक ये विषय शुरू किया जाएगा, जबकि 11वीं और 12वीं के छात्र शारीरिक शिक्षा विषय में ही शतरंज के बारे में पढे़ंगे। बताया जा रहा है कि 11वीं और 12वीं कक्षा के लिए विभाग द्वारा सिलेबस तैयार किया जा रहा है, जबकि पहली से दसवीं तक ये सभी औपचारिकता पूरी कर ली गई है। प्रारंभिक शिक्षा विभाग के संयुक्त निदेशक हितेश आजाद का कहना है कि विभाग स्कूलों में शतरंज बतौर विषय शुरू कर रहा है।

You might also like