सरगम की पेंटिंग…वाह भई वाह

शिमला—राजधानी शिमला के गेयटी थियेटर में महासू आर्ट कला संस्था द्वारा लगाई जा रही चित्रकला प्रदर्शनी में बाहरी राज्यों से लगभग 36 चित्रकारों की चित्रकारी की प्रदर्शनी लगाई जा रही है। इस चित्रकला प्रदर्शनी में कलाकारों ने बहुत खूबसूरत चित्रकारी की है, जिसे देखकर लोग काफी प्रभावित हो रहे हैं। गेयटी में आज कल सरगम चौहान की पेंटिंग बडे आकर्षण का केंद्र बनी है। अपनी पेंटिंग में उन्होंने खुले आसमान में पंछियों को उड़ते हुए दिखाया है। वहीं, एक तरफ चिडि़या के छोटे बच्चे अपने घांेसले में मां का इंतजार कर रहे हैं। इस चित्रकारी में एक तरफ बच्चे खुले आसमान में उड़ना चाहते हैं, लेकिन उन बच्चों की मां अभी उन्हें इसकी इजाजत नहीं दे रही। अपनी चित्रकारी में सरगम यही बताना चाह रही है कि लड़कियों को अभी भी कई लोग घर में ही रखना चाहते हैं, लेकिन लड़की खुले आसमान में उड़ना चाहती है, वह पढ़ लिख कर कुछ अच्छा काम करना चाहती है। सरगम ने अपनी चित्रकारी में लोगों को एक संदेश देने की कोशिश की है। स्वयं एक लड़की होने के नाते वह समाज की हर एक महिला की स्थिति को आकाश में उड़ते पक्षियों की तरह देखती है। वह कहना चाहती है कि लड़कियों को बचपन से ही बेडियों में बांध दिया जाता है। वह अपनी मन की नहीं कर सकतीं, लेकिन आज के दौर में देखा जाए तो ऐसा कोई क्षेत्र नहीं होगा जहां लड़कियों ने अपना परचम न फहराया हो। सरगम हर उस लड़की को अपनी चित्रकारी के माध्यम से यह संदेश देना चाहती है कि यदि आपके हांैसले बुलंद हांे तो बड़ी से बड़ी समस्या आपके हौसले के आगे घुटने टेक देती है। यदि अपने सपनों को पूरा करना चाहती हैं तो कड़ी मेहनत करें लगातार प्रयासरत रहें। समस्या कैसी भी हो एक न एक दिन आपकी कड़ी मेहनत के आगे हार ही जाती है। और उस दिन आपको खुले आसमान में उड़ने से कोई नहीं रोक सकता। बता दें कि सरगम अभी चित्रकला में ही अपनी पढ़ाई कर रही है। वहीं वह बहुत खुश हैं कि उन्हें महासू कला संस्था द्वारा अपनी प्रतिभा को दिखाने का सुनहरा अवसर मिला।

15 लाख में बिकी अजय थापा की पेंटिंग

गेयटी में लगी चित्रकारी लोगों को इतनी पसंद आ रही है कि वे इन पेंटिंग को खरीद कर अपने घरों में सजावट के लिए ले जा रहे हैं। ऐसी ही एक पेंटिंग है अजय थापा की जो शुक्रवार को 15 लाख में खरीदी गई। अब यह पेंटिंग शिमला के मशहूर होटल में सजावट के इस्तेमाल में लाई जाएगी। वहीं, यदि इस पेंटिंग की खूबी की बात की जाए तो, यह पेंटिंग हिमाचल प्रदेश के गद्दी समुदाय पर आधारित है। यह केवल हिमाचल प्रदेश तक ही सिमीत है। गद्दी समूदाय जिस तरह से अपनी भेेड़ बकरियों को लेकर जंगलों में रहते हैं। उसे सुंदर रंगों के माध्यम से दिखाया गया है।  बता दें कि अजय थापा आर्मी में भी अपनी सेंवाए दे चुके हैं।

You might also like