सांगला की पहाडि़यों से निकाले लापता सैलानी

सांगला —सांगला के रोंटीगाड में लापता पांच ट्रैकर्ज को रेस्क्यू कर लिया गया है। उन्हें रविवार देर शाम सांगला में सुरक्षित पहुंचाया गया। इसके बाद सोमवार को स्थानीय अस्पताल में उपचार के बाद उन्हें टैक्सी के माध्यम से दिल्ली भेज दिया गया है। जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र व बंगाल के 14 ट्रैकर्ज का एक ग्र्रुप उत्तराखंड के दौला से सेवा, जिसगुन व जाखा होते हुए रोंटीगाड की प्राकृतिक सुंदरता को निहारते हुए सात दिनों बाद शनिवार को रूपिन पास पहुंचा था, जहां भारी बर्फबारी के बीच पांच ट्रैकर्ज फंस गए, जिनमें दो महाराष्ट्र व तीन बेस्ट बंगाल के थे। इसकी सूचना शनिवार रात को उनके दल में शामिल अन्य नौ सैलानियों ने कैंप ऑर्गेनाइजर सांगला निवासी ओंकार नेगी को दी। इस पर ओंकार नेगी ने पुलिस थाना सांगला को सूचित किया। पुलिस थाना सांगला से आरक्षी पंकज व मनोज कुमार की अगवाई में स्थानीय निवासी ओंकार नेगी, जितेंद, अप्पु पुजारी, राजदीप भंडारी, इवान नालंदा सहितस्थानीय लोगों की टीम ने तीन फुट बर्फबारी के बीच लापता टै्रकर्ज की तलाश की। 10 घंटे बाद आखिर उन्हें रविवार देर शाम सुरक्षित निकाल लिया गया। लापता टै्रकर्ज में एस्टन यूस्टर पुत्र मिस्किटा, देवा ज्योति पुत्र प्रदीप कुमार, प्राची नंद पुत्री नंद कुमार, सिद्धार्थ पुत्र समर कुमार व पियूष नाथ पुत्र देव देवव्रत शामिल थे। प्राथमिक उपचार के बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सांगला में पहुंचाया गया, जहां से उन्हें टैक्सी के माध्यम से दिल्ली रवाना किया गया। मामले की पुष्टि करते हुए कार्यवाहक थाना प्रभारी सांगला नरपत राम ने बताया कि सभी लोगों की हालत ठीक थी। उपचार के बाद दिल्ली के लिए रवाना किया गया है।  

You might also like