सिख दंगों पर मेरा बयान तोड़ा-मरोड़ा

कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा बोले; गलती हुई है, तो चाहता हूं माफी

शिमला – 1984 के सिख दंगों को लेकर सैम पित्रोदा ने कहा है कि उन्होंने जो कुछ पहले कहा उसे तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है। उनका मतलब  यह था कि जो हुआ वो बुरा हुआ। मैं अपने दिमाग में बुरा शब्द का अनुवाद नहीं कर सका, क्योंकि हिंदी का अनुवाद सही तरह से नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि उनका बोलने का मतलब यह था कि आगे बढ़ो, बहस के लिए मुद्दे और भी हैं, क्योंकि मोदी सरकार ने क्या कुछ किया, इस पर बहस होनी चाहिए। उन्होंने सिख दंगों को लेकर दिए अपने बयान पर माफी भी मांगी। कांगे्रस नेता सैम पित्रोदा ने कहा कि  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के पास झूठ के सिबाय कुछ नहीं है। स्वर्गीय राजीव गांधी के खिलाफ टिप्पणियां करने वाले अपने पांच साल के कार्यकाल की एक भी उपलब्धि गिनाएं। शिमला के होटल होलि-डे होम में एक कार्यक्रम में शामिल होने आए सैम पित्रोदा ने मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि पांच साल में मोदी ने जनता को केवल झूठ बोला। उन्होंने झूठ बेचा और उसी के सहारे पर फिर जनता को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कालेधन, बेरोजगारी को दूर करने के वादे, स्मार्ट सिटी बनाने के वादों और देश की आर्थिकी सुधारने के वादे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जवाब मांगा। उन्होंने कहा कि इनमें से कोई भी वायदा पूरा नहीं किया गया, जिस पर आज जनता को जवाब मांगना चाहिए। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गांधी का इतिहास खुली किताब की तरह है, जिन्होंने देश को आधुनिक तकनीक देकर उन्नति के शिखर पर खड़ा कर दिया। आज मोदी पांच साल के झूठे कार्यकाल पर राजीव गांधी के खिलाफ टिप्पणियां कर रहे हैं जो ना तो उनसे सहन हो रही हैं और ना ही देश की जनता ही सहेगी। उन्होंने कहा कि मोदी को देश की जनता उन्हीं के हिसाब से जवाब देगी और अब वक्त आ चुका है। पित्रोदा ने कहा कि देश का भविष्य लोकसभा के इस चुनाव पर टिका है।

भारतीयों की वजह से सम्मान

पित्रोदा ने कहा कि भारत का विश्व में सम्मान मोदी की वजह से नहीं, बल्कि भारतीय लोगों की वजह से है, जो कि विदेशों में देश का नाम रोशन कर रहे हैं। बड़ी-बड़ी कंपनियों को चलाने वाले आज भारतीय लोग ही हैं, जिन पर दूसरे देश टिके हुए हैं, इसलिए भारत पर दुनिया को गर्व होता है।

You might also like