सीएम को मासूम सोचता था, पर शातिर निकले

वीरभद्र सिंह का जयराम ठाकुर पर जोरदार प्रहार, झूठ को कोई भी नहीं बख्शता

जोगिंद्रनगर, पद्धर —पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने शनिवार को पद्धर में कहा कि झूठ बोलकर वाहवाही होगी, यह भाजपा की गलतफहमी है। शालीनता की बात सब समझते हैं, लेकिन झूठ को कोई नहीं बख्शता। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के पास न तुजुर्बा है, न सामग्री, जिससे वह प्रदेश का भला कर सकें। मैं जयराम को पहाड़ी और मासूम आदमी सोचता था। इसलिए मैंने आज तक कोई टिप्पणी नही की, लेकिन जयराम तो शातिर निकले।  पहाड़ी संस्कृति का आदमी मुख्यमंत्री बनकर इतना मदहोश हो जाएगा, कभी सोचा नहीं था। इसके अलावा उन्होंने लदरूही की जनसभा में कहा कि पिता की गलतियों की सजा बेटे को नहीं देनी चाहिए। जाने-अनजाने में आश्रय के पिता भाजपा में चले गए थे, लेकिन देर आए दरूस्त आए। उन्होंने अपने मंत्री पद से इस्तीफा देकर कांग्रेस को मजबूत बनाया है।  कांग्रेस ने प्रदेश को दो युवा होनहार नेता दिए हैं। इसमें सभी को आश्रय को भारी मतों से विजयी बना कर लोकसभा भेजना है। वीरभद्र सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री मात्र अपने जिला मंडी में ही फंस कर रह गए हैं, जबकि उनको तो पूरे हिमाचल में कैंपेन करनी चाहिए। मुख्यमंत्री बनना और प्रदेश की गरीब जनता की सेवा करना यह दोनों ही काबलियत से किए जाते हैं, लेकिन उन्हें प्रदेश की जनता की चिंता नहीं हैं और वह तो मात्र हेलिकाप्टर में ही उड़ रहे हैं। आज प्रदेश में सड़कों, स्वास्थ्य और शिक्षा की खस्ता हालत हो गई है। क्राइम भी चरम सीमा पर है और भाजपा के कार्यकाल में चिट्टा तस्करों की तादाद बढ़ रही है। नशे के सौदागरों को सरकार का संरक्षण है। शिमला में दुष्कर्म मामले में भी अब तक सरकार किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच सकी है, जो कि सरकार की विफलता को दिखाता है।

रामस्वरूप को लपेटा

वीरभद्र सिंह ने सांसद रामस्वरूप शर्मा पर निशाना साधते हुए कहा कि मंडी के सांसद पांच वर्ष के कार्यकाल में एक भी काम बताएं, जो उन्होंने जनता के लिए किया हो। काम किए होते तो मुख्यमंत्री का सहारा नहीं लेना पड़ता।

You might also like