सीटी स्कैन को न आएं बिलासपुर अस्पताल

पांच महीने से खराब पड़ी मशीन अभी तक नहीं हुई ठीक, मरीजों को झेलनी पड़ रही परेशानी

बिलासपुर – क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर में गत पांच माह से सीटी स्कैन की सुविधा ठप पड़ी है। अस्पताल में मशीन ठीक होने की आस में रोजाना मरीजों को मायूसी झेलनी पड़ रही है। आलम यह है कि मरीज रोजाना निजी सीटी स्कैन सेंटरों का रुख करने को मजबूर हैं। अस्पताल में करीब पांच माह के लंबे समय से खराब पड़ी सीटी स्कैन की मशीन अभी तक ठीक नहीं हो पाई है। इसके चलते मरीजों को निजी सेंटरों व अस्पतालों का का रुख कर महंगी दरों पर सीटी स्कैन की सुविधा लेनी पड़ रही है। लिहाजा अस्पताल में खराब हुई यह मशीन कब तक इसी हालत में रहेगी इसका किसी को पता नहीं है। क्योंकि इस मशीन को ठीक करने के लिए राज्य स्तर के टेक्नीशियन आते हैं। बताया जा रहा है कि मशीन को ठीक करने के लिए कांट्रैक्ट खत्म हो चुका है, जिसके चलते यह परेशानी पेश आ रही है। अलबत्ता जब तक नए कांट्रैक्ट नहीं हो जाते तब तक मरीजों को इसी तरह परेशनी झेलनी पड़ सकती है। क्षेत्रीय अस्पताल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डा. राजेश आहलूवालिया ने बताया कि मशीन में तकनीकी फाल्ट आने के बाद मशीन राज्य स्तर पर टेक्नीशियन द्वारा ही रिपेयर की जाती है। अभी तक टेक्नीशियन के अभाव से यह मशीन ठीक नहीं हो पाई है। उन्होंने बताया इसकी सूचना उच्च अधिकारियों दे दी है व रिमाइंडर भी भेजा गया है। उन्होंने बताया कि हाल ही में शिमला में हुई विभाग की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा हुई है। नए कांट्रैक्ट होने के बाद व टेक्नीशियन के आने पर ही यह मशीन दोबारा वर्किंग में शुरू होगी। गौरतलब है कि अस्पताल में रोजाना सीटी स्कैन के 15 से 20 मरीज आते हैं। ऐसे में मशीन के खराब होने पर मरीजों को सीटी स्कैन के लिए मोटी रकम चुकानी पड़ रही है। मशीन के खराब हो जाने से निजी अस्पतालों व सीटी स्कैनों सेंटरों की बल्ले-बल्ले हैं। लिहाजा जल्द स्वास्थ्य विभाग ने इसे लेकर कोई उचित कदम न उठाया तो अस्पताल आने वाले मरीजों की परेशानियां और बढ़ सकती हैं।

You might also like