सीबीआई ने पुलिस से मांगा रिकार्ड

केंद्रीय जांच एजेंसी ने शिमला पुलिस को पत्र लिखकर मांगा ब्यौरा

शिमला —हिमाचल में हुए करोड़ों के छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर रही सीबीआई ने अब  घोटाले से जुड़ा रिकार्ड शिमला पुलिस से मांगा है। हालांकि अब तक की जांच में सीबीआई ने अधिकांश निजी शिक्षण संस्थानों से पूरा रिकार्ड अपने कब्जे में ले लिया है, लेकिन शिमला पुलिस से भी पूरा ब्यौरा मांगा है। सीबीआई ने शिमला पुलिस को पत्र लिख कर समय पर पूरा ब्यौरा देने को कहा है। सीबीआई सूत्रों की मानें तो शिक्षा विभाग से रिकार्ड एफआईआर होने के अगले ही रोज छापामारी कर ली गई है।  ऐसे में अब शिमला पुलिस भी जल्द ही छात्रवृत्ति घोटाले से जुड़े तमाम रिकार्ड को सीबीआई के सुपुर्द कर देगी। सीबीआई का दावा है कि इस मामले में 22 निजी शिक्षण संस्थानों से रिकार्ड ले लिया गया है, जिसकी सीबीआई की शिमला शाखा में जांच पड़ताल चली हुई है। सीबीआई की टीम द्वारा पंजाब और चंडीगढ़ के निजी शिक्षण संस्थानों से छात्रवृत्ति घोटाले से जुड़े रिकार्ड के हार्ड डिस्क और सॉफ्टवेयर सीबीआई ने अपने कब्जे में ले लिया है। फिलहाल अभी कब्जे में लिए गए रिकार्ड की छंटनी की जा रही है। सीबीआई इस मामले में पूरी तह तक जाने के लिए जांच दायरे में आए निजी शिक्षण संस्थानों से हासिल किए रिकार्ड में यह खंगाल रही है कि कौन से निजी शिक्षण संस्थान पर किस वर्ष कितनी एडमिशन हुई और कितनों को छात्रवृत्ति बांटी गई। चूंकि कुछ निजी शिक्षण संस्थानों पर फर्जी दाखिल दिखाकर छात्रों के बैंक खाते खोलने और छात्रवृत्ति के नाम पर सरकारी धनराशि का गबन करने के आरोप हैं। एक निजी शिक्षण संस्थान में एससी, एसटी छात्रों  के लिए 800 के करीब सीटें थी, जबकि इस संस्थान में 3300 के आसपास एडमिशन कर डाली और उसी आधार पर सभी छात्रों को छात्रवृत्ति राशि कर दी गई। सीबीआई यह खंगाल रही है कि छात्रवृत्ति के लिए केंद्र से कब पैसा जारी हुआ और कब इसे आगे किसके माध्यम से शिक्षण संस्थानों को जारी किया गया।

You might also like